सरकार द्वारा सरसों का समर्थन मूल्य तय करना केवल दिखावा – किरण चौधरी

Breaking खेत-खलिहान बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा
Jagbir Ghangash
Bhiwani,  (26 March 2018)
प्रदेश की सीएलपी लीडर किरण चौधरी ने भाजपा और इनेलो पर कटाक्ष करते हुए बङा आरोप लगाया है। भिवानी में अपने आवास पर आयोजित प्रेसवार्ता में किरण चौधरी ने कहा कि इनेलो और भाजपा चुनाव में जातिवाद फैलाएंगी लेकिन दोनों की 10 सिटें भी नहीं आएंगी।
साथ ही उन्होंने सरसों की खरीद पर किसानों के साथ लूट होने, बुढ़ापा पेंशन के नाम पर नीजि बैंकों को लाभ पहुंचाने तथा सिंचाई के पानी को लेकर भिवानी से भेदभाव के भी आरोप लगाए।
बता दें कि कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी ने ना केवल इनेलो पर बल्कि भाजपा पर भी एक-एक कर निशाना साधा। सबसे पहले किरण चौधरी ने आरोप लगाया कि विधानसभा में सरसों की खरीद का जब मुद्दा उठाया तो कृषि मंत्री ने विस पटल के समर्थन मूल्य पर सरसों की खरीद व किसानों की आय दोगुणी करने का आश्वासन दिया।
जबकि आज तक समर्थन मूल्य पर खरीद शुरु नहीं हुई। किरण चौधरी ने कहा कि शर्तों के नाम पर ना केवल किसानों बल्कि आढ़तियों के साथ भी धौखा हो रहा है। उन्होंने कहा कि हालात ऐसे हैं कि सरकार की शर्तें फांसी का फंदा बन कर किसानों के गले घोंट रही हैं।
किरण चौधरी ने इनेलो और भाजपा की आपस में मिलीभगत का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि इसी मिलीभगत के चलते सिरसा में नहरी पानी 14 दिनों में दिया जा रहा है और भिवानी में 42 दिनों में भी पानी नहीं आ रहा।
किरण ने कहा कि इनेलो और भाजपा दिखावे के लिए एक दूसरे का सिर फोङते हैं जबकि हकिकत में दोनों मिलकर चुनाव में जातिवाद का जहर फैलाएंगें। साथ ही कहा कि इन्हें भी पता है कि 12 महिने बाद क्या होने वाला हैं। जनता एक-एक दिन गीन-गीन कर काट रही है। दोबारा इनकी सरकार बनी तो भूगतना हमें नहीं, जनता को ही पडेगा।
वहीं बुढ़ापा पेंशन के नाम पर भी किरण चौधरी ने सरकार पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि हर गांव में कॉपरेटिव बैंक होने के बावजूद बुजुर्गों को परेशान करने और नीजि बैंकों को लाभ पहुंचाने के लिए पेंशन नीजि बैंकों के माध्यम से दी जा रही हैं। किरण चौधरी ने केजरीवाल की हिसार रैली पर कहा कि वो अपनी दिल्ली संभाले।
जहां जाते हैं वहीं की बात ना करें। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा का सबसे बङा मुद्दा है लेकिन केजरीवाल पंजाब के हक में बोल चुके हैं। साथ ही भिवानी बाल कल्याण परिषद द्वारा दुकाने खोलने पर भी सवाल उठाया और कहा कि इसमें आला अधिकारी मिले हुए हैं और जल्द जांच शुरु नहीं हुई तो अगली बार विस में अधिकारियों के नाम सहित मुद्दे को उठाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *