फतेहाबाद में सीएम फ्लाइंग के रेड में बड़ा खुलासा, मत्स्य पालन विभाग में हुआ बड़ा घोटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana, Fatehabad

फतेहाबाद के मत्स्य विभाग में बड़े स्तर पर फर्जी बिल तैयार कर फर्जीवाड़ा करने का मामला सामने आया है। आज हिसार से पहुंची सीएम फ्लाइंग की टीम ने इस मामले में जांच की थी जिसके बाद विभाग के अधिकारियों समेत 20 लोगों के खिलाफ केस दर्ज करवाया गया है।

फतेहाबाद में पुलिस ने सीएम फ्लाइंग के एसआई दुष्यंत कुमार की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज किया है। इसमें अधिकारी तो है ही, इनके अलावा मछली पालक किसान भी शामिल हैं।

जानकारी के मुताबिक मत्स्य विभाग फतेहाबाद ने किसानों को झींगा मछली के पालन के लिए सब्सिडी दी थी। इसमें सीएम फ्लाइंग ने खुलासा करते हुए बताया कि सब्सिडी लेने के लिए बड़े स्तर पर फर्जी बिलों का सहारा लिया गया और सरकार को लाखों रुपये का चूना लगाया गया है।

सीएम फ्लाइंग को पंचकूला से मिली थी शिकायत 

सीएम फ्लाइंग को इस पूरे फर्जीवाड़े की शिकायत मिली थी जिसके बाद आज पूरी टीम ने अचानक से मत्स्य पालन विभाग के दफ्तर में रेड मारी और कागजातों की गहनता से जांच की। जांच में खुलासा हुआ कि फतेहाबाद में झींगा मछली पालन की 18 यूनिट बनी हुई है, लेकिन किसानों के पास दिखाए गए उपकरण मौके पर नहीं मिले, वहीं ज्यादात्तर बिल भी फर्जी पाए गए।

इन लोगों को बनाया गया है आरोपी

इस मामले में सीएम फ्लाइंग ने मत्स्य विभाग के तत्कालीन उप निदेशक, जिला मत्स्य अधिकारी, जेई व किसान सतबीर सिंह निवासी बनमंदौरी, राजुकमार निवासी दहमन, दलबीर, राजबीर और ओमप्रकाश निवासी ठुईयां, किसान अनिल कुमार नहला, कृष्ण कुमार निवासी ठुईयां, सतीश कुमार निवासी ढाबीकलां, जितेंद्र निवासी मेहूवाला, सतबीर सिंह निवासी बनमंदौरी, पवन कुमार निवासी बनगांव, दीपक भुटानी एमसी कॉलोनी, दिनेश जताना निवासी फतेहाबाद, रामस्वरुप निवासी बनमंदौरी, कर्ण सिंह निवासी बनमंदोरी, संदीप, संजीत निवासी दौलतपुर (हिसार), भीम सिंह निवासी हिसार के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *