मनोहर सरकार ने ‘परिवार पहचान पत्र’ पोर्टल किया लॉन्च, होंगे ये फायदे

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 25 July, 2019

चंडीगढ़ में प्रैसवार्ता कर सीएम मनोहर लाल द्वारा परिवार पहचान पत्र पोर्टल लॉन्च किया गया। देशभर में नागरिक की पहचान केवल आधार और परिवार के तौर पर केवल राशन कार्ड के माध्यम से ही जानकारी मिलती है। सीएम मनोहर लाल का कहना है कि लगातार अपडेट न होने से किसी भी तरह की योजना बनाने में परेशानी आती है।

सीएम ने कहा कि 3 साल पहले रेजिडेंट डेटा बेस पर काम करना शुरू किया गया था। इसके लिए हमने प्रत्येक परिवार का पहचान पत्र तैयार करने की योजना पर केंद्रित किया था।

अब परिवार में सदस्य जुड़ने से लेकर किसी सदस्य की मृत्यु होने की स्तिथि में अपडेट जानकारी परिवार पहचान पत्र के माध्यम से संकलित होगी।

उन्होंने बताया कि PDS एवं अन्य योजनाओं के लाभार्थियों के माध्यम से डेटा संकलन किया गया था। 26 जुलाई से प्रदेश में नागरिक प्रफार्मा भरकर जमा करवाएंगे और इसे कब-कब अपडेट किया गया, इसकी भी जानकारी सिस्टम में रहेगी।

सीएम ने बताया कि अब एक क्लिक पर डेटा उपलब्ध होगा। शहर में पालिका व गांव में स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से जन्म के समय के आंकड़े एकत्रीकरण के लिए आंगनवाड़ी एवं अन्य वर्करों और मृत्यु की स्तिथि में चौकीदार के माध्यम से डेटा अपडेट किया जाएगा।

सीएम ने बताया कि इस काम मे शामिल होने वाले कर्मचारियों को इंसेंटिव दिया जाएगा। साथ ही विवाह प्रमाण पत्र का डेटा भी भविष्य में अपडेट करना सुनिश्चित किया जाएगा।

योजना विभाग के पास तैयार होने वाले इस डेटा के माध्यम से अन्य विभाग अपनी योजना के लिए इस डेटा से जुड़ सकेंगे। विभागों के आपसी आंकड़ों में होने वाले मिस मैच को खत्म करना भी अब संभव होगा।

सीएम मनोहर लाल का कहना है कि आईटी विभाग के कारण प्रदेश की जनता में सकारात्मक संदेश जाएगा। परिवार पहचान पत्र के माध्यम से हर परिवार की आवश्यकता को ध्यान में रखकर इनका इस्तेमाल करेंगे।

गरीब, पात्रों के लिए योजनाओं का लाभ लेने के लिए आमजन को सहूलियत  होगी। आज तक योजना लेने हमारे पास आते हैं, भविष्य में हम योजना का लाभ देने आमजन तक जाएंगे।

सीएम ने कहा कि हमारा उद्देश्य कम आमदनी वाले ग्रुप परिवार को लाभ देना अगला लक्ष्य होगा। देश मे केवल दो जाति, एक गरीब और दूसरी गरीब का उत्थान करने वाले। हम आर्थिक आधार पर प्रदेश के नागरिक को हर उस योजना का लाभ प्राप्त करने का अवसर प्रदान करेंगे, जिसके लिए वो योग्य हैं।

जिम्मेदार अधिकारी ही प्रत्येक व्यक्ति की विभाग से संबंधित जानकारी ही एक्सेस कर पाएंगे। सुरक्षा कारणों से सारा डेटा कोई भी एक्सेस नहीं कर पाएगा। सीएम ने कहा कि यह कार्यक्रम निरन्तर चलने वाला कार्यक्रम, इसमें लगातार सुधार होंगे और सुनिश्चित करेंगे कि सबको उनका हक याअधिकार मिलें। इससे प्रत्येक व्यक्ति की चल-अचल संपत्ति की भी जानकारी होगी।

सीएम ने कहा किवर्तमान समय मे संबंधित योजना के लाभार्थी की होगी जानकारी, ताकि उनको लाभ मिलना सुनिश्चित करेंगे। सरकार की अटल सेवा केंद्र, सरल केंद्र, अंत्योदय केंद्र पर प्रफार्मा लेने, प्रिंट आउट के लिए नागरिक से कोई पैसा नहीं लिया जाएगा।

वहीं, मीडिया के सवालों के जवाब देते हुए सीएम ने कहा कि प्रत्येक परिवार का अलग पहचान पत्र रहेगा, जिसके माध्यम से भ्रष्टाचार पर रोक लगेगी। परिवार पहचान पत्र नम्बर का भविष्य में उपयोग को लेकर प्रक्रिया तय होगी। उन्होंने कहा कि ऑनलाइन सर्विस के लिए आज भी आंकड़े एकत्रित किए जा रहे हैं, भविष्य में भी जारी रहेंगे।

सीएम मनोहर लाल ने कहा कि वर्तमान में नागरिक से स्वैच्छिक संपत्ति, जमीन संबंधी जानकारी देने का अनुरोध होगा। सभी प्रकार के आंकड़े केन्द्रीयकरण करने की दिशा में सरकार काम कर रही है, ताकि योजनाओं का लाभ उठाया जा सके।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *