सीएम खट्टर ने दो पुलिस कर्मचारियों को किया सस्पेंड, समय पर चालान नहीं कर पाए थे पेश

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 19 Sept, 2018

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पीएनडीटी और एमटीपी एक्ट के उल्लंघन के एक मामले में समय पर चालान पेश न करने की एवज में हिसार के बास थाने के सब इंस्पेक्टर और आईओ देवेंद्र को निलंबित कर दिया है। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने सीएम विंडो पर आने वाली शिकायतों का सही समय पर निपटान न करने पर गुरुग्राम और फरीदाबाद के नगर निगम आयुक्तों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

यह जानकारी मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ. राकेश गुप्ता ने गत देर सायं राज्य के सभी जिलों के उपायुक्तों, पुलिस अधिक्षकों व जिला के अन्य अधिकारियों के साथ वीडियो कान्फ्रैंस के माध्यम से विभिन्न विकास कार्यों, योजनाओं और परियोजनाओं बारे समीक्षा बैठक के दौरान दी। बैठक में हरियाणा विजन जीरो, सीएम विण्डो, पीएनडीटी/एमटीपीएक्ट, स्ट्रे कैटल फ्री, शिवधाम नवीनिकरण योजना, ई-पंचायत प्रणाली, पर्यावरण, हरियाणा को पॉलिथिन फ्री बनाने, सरकारी संस्थानों में एल.ई.डी. लगवाने, प्रोग्रैस हरपैथ, डिजिटल हरियाणा, अन्तोदय योजना, अन्तोदय सरल, स्वच्छता सर्वेक्षण तथा सक्षम हरियाणा एजुकेशन सहित अनेक योजनाओं/परियोजनाओं बारे समीक्षा की गई।

उन्होंने सीएम विंडो की समीक्षा करते हुए नूहं, करनाल, कुरुक्षेत्र और यमुनानगर द्वारा किये गए कार्यों की प्रशंसा की और ‌जींद त‌था पानीपत में हुए सुधार की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि सीएम विंडो पर आने वाली शिकायतों के लिए एक साप्ताहिक तंत्र बने ताकि इन शिकायतों का जल्द से जल्द निपटारा किया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके लिए नई टीम का गठन जिला स्तर पर किया जा सकता है। उन्होंने पानीपत में सरकारी पैसे के दुरुपयोग के मामले को निपटाने के लिए संबंधित उपायुक्त को निर्देश दिये कि अपनी निगरानी के तहत इसकी पूरी जांच करें और यदि कोई दोषी पाया जाता है तो उसके विरुद्ध एफआईआर दर्ज करवाएं।

इसी प्रकार सोनीपत में 20 करोड़ रुपये के गबन के मामले पर भी उन्होंने सोनीपत के उपायुक्त को निर्देश दिए कि इस मामले पर अपनी समुचित कार्रवाई करें। इसी प्रकार रेवाड़ी के उपायुक्त को ‌निर्देश देते हुए कहा कि अवैध टावर के मामले को जल्द से जल्द निपटाया जाए।

उन्होंने सिरसा में जेई और क्लर्क द्वारा की गई अनियमितताओं के संबंध में संबंधित उपायुक्त को एक सप्ताह के भीतर चार्जशीट जारी करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार यमुनानगर के एक मामले में भी उन्होंने यमुनानगर के उपायुक्त को  मामले को निपटाने के निर्देश दिए।

पीएनडीटी एवं एमटीपी एक्ट पर समीक्षा करते हुए उन्होंने सिरसा व सोनीपत द्वारा किये गए प्रयासों की प्रशंसा की और उन्हें बताया गया कि सोनीपत ने 27 छापे मारे हैं, जिसमें उत्तर प्रदेश में भी छापे मारे गए हैं। उन्होंने रेवाड़ी के डॉ. कृष्‍ण कुमार को चेतावनी देते हुए कहा कि वे इस एक्ट के तहत सही कार्य नहीं कर रहे हैं और गलत जानकारी देते हैं, इसलिए डॉ. राकेश गुप्ता ने उन्हें चेतावनी दी कि वे अगली बैठक तक अपने कार्य को ठीक कर लें अन्यथा उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि अंबाला, नूंह, भिवानी, फरीदाबाद, करनाल इत्यादि जिलों को अपने प्रयासों के स्तर को बढ़ाना होगा। उन्होंने पंचकूला, जींद, पलवल, पानीपत, रोहतक, महेंद्रगढ़, झज्जर, फतेहाबाद के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि वे अपने यहां पीएनडीटी एवं एमटीपी एक्ट के तहत लगातार छापे मारे और बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान को सफल बनाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। इसी प्रकार नशे को दूर करने के लिए नशा मुक्ति केंद्र स्थापित किये जा रहे हैं और उन्होंने अधिकारियों को इस संबंध में निर्देश दिये कि जो व्यक्ति नशे को बेच रहा है उसे पकड़ा जाए और उसकी जड़ तक पहुंच कर इस कड़ी को समाप्त किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *