हरियाणा के इतिहास में पहली बार- मुख्यमंत्री ने गरीबों के साथ एक ही टेबल पर बैठकर किया मंथन, सरकारी योजनाओं के लिए ली सलाह

चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Haryana 23 March,2018

हरियाणा में सरकार विभिन्न योजनाएं बनाने जा रही है। जिसमें खास बात ये है कि सरकारी योजनाएं बनाने से पहले मजदूरों और रेहड़ी वालों सहित समाज के निम्‍न आय वर्ग के लोगों के साथ चर्चा की जाएगी।

जिसको लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गरीब रेहड़ी वालो और मनरेगा मजदूरों से भी अपने निवास पर बातचीत की। मुख्यमंत्री के साथ गरीबी दूर करने के उपायों पर दर्जी, मूर्तिकार, लोहार और मेकेनिक ने कई घंटे तक मंथन किया।

बता दें कि प्रदेश के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा कि मुख्यमंत्री ने जब गरीबों के कल्याण की योजनाएं बनाने से पहले उनके साथ एक टेबल पर बैठ कर मंथन किया।
ठेके पर काम करने वाले दिहाड़ीदार, खेतिहर मजदूर, खिलौने बनाने वाले, मोची, बिस्कुट और बैग बनाने वाले और बुटीक के काम में लगी महिलाएं इस चर्चा का हिस्सा बनीं।

सीएम ने घोषणा की है कि गरीबों के लिए चलाई जा रही सभी सरकारी योजनाओं को एक छत के नीचे लाने के लिए तहसील, उपमंडल और जिला स्तर पर ‘अंत्योदय केंद्र’ खोले जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब लोग अपने बनाए हुए उत्पादों को सीधे उपभोक्ताओं को बेच सकें, इसके लिए प्रदेश भर में सरस मेले लगाए जाएंगे।

14 अप्रैल को अंबेडकर जयंती के अवसर पर प्रदेश में छह अंत्योदय केंद्रों की शुरुआत होगी। इन केंद्रों में सरल पोर्टल के तहत प्रदेश का गरीब से गरीब व्यक्ति अपने कल्याण की योजनाओं के बारे में जानकारी हासिल कर सकेगा।

साथ ही योजना के लाभ के लिए आवेदन की सुविधा भी होगी। अंत्योदय केंद्र के अलावा अटल सेवा केंद्रों पर भी ये सुविधाएं मिलेंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अपात्र लोगों को लाभ के दायरे से अलग करने के लिए राज्य भर में सर्वे होगा। राज्य में अंत्योदय कार्यालय स्थापित होने के बाद अंत्योदय मेले लगाए जाएंगे। सीएम ने मेरिट के आधार पर दी जा रही नौकरियों के बारे में राय पूछी, जिसका सभी ने समर्थन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *