हरियाणा के तीर्थ स्थलों की यात्रा पर निकले मुख्यमंत्री मनोहर लाल, 134 तीर्थ स्थलों के लिए मंजूर किए 18 करोड़ रुपये

Breaking Uncategorized बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

Yuva Haryana

धर्मनगरी कुरुक्षेत्र की 48 कोस की परिक्रमा में पड़ने वाले तीर्थ स्थलों के विकास एवं जीर्णोद्घार के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने करीब 18 करोड़ रुपये खर्च करने की घोषणा की है। कुरुक्षेत्र, करनाल, कैथल, पानीपत व जींद जिलों के महाभारत, रामायण व वामन पुराण में वर्णित 134 तीर्थ स्थलों के प्राचीन, धार्मिक व सांस्कृतिक महत्व के दृष्टिगत इनके जीर्णोद्धार की घोषणा की। उन्होंने करनाल जिले के 13 तीर्थ स्थलों का एकसाथ दौरा कर इनमें कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के माध्यम से लगभग 18.39 करोड़ रुपये के विकास कार्यों की घोषणा की।

        मुख्यमंत्री ने करनाल जिले के विमलसर तीर्थ सग्गा से अपने इस दौरे की शुरूआत की। इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज उनके जीवन का ऐतिहासिक दिन है। उन्हें महाभारतकाल से जुड़े तीर्थ स्थलों का दौरा करने का सौभाग्य मिला है। उन्होंने कहा कि जो समाज अपनी सांस्कृतिक धरोहर को संजोए रखता है वह युवा पीढ़ी को अच्छे नैतिक संस्कार देता है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2016 से हरियाणा सरकार ने गीता महोत्सव को अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाई है। पिछले वर्ष गीता महोत्सव के दौरान 20 से अधिक देशों के अलावा भारत के कोने-कोने से लगभग 24 लाख लोगों ने ब्रह्मसरोवर की परिक्रमा की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गीता के सार को न केवल भारत बल्कि विश्वभर के लोगों ने अपने जीवन का हिस्सा मानना शुरू कर दिया है और इसी के चलते हर वर्ष अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव पर आगंतुकों की संख्या में इजाफा हो रहा है। उन्होंने कहा कि 48 कोस की परिधि में पड़ने वाले तीर्थ स्थलों का भी ये आगंतुक दौरा करेंगे तो निश्चित रूप से यहां विकास के साथ-साथ स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के अवसर सृजित होंगे और यह क्षेत्र धार्मिक पयर्टन के रूप में विकसित होगा।

मनोहर लाल ने विमलसर तीर्थ सग्गा, पराशर तीर्थ बहलोलपुर, वेदवती तीर्थ सीतामाई, व्यास स्थली बस्थली, त्रिगुणानंद तीर्थ गुनियाना, मित्रक तीर्थ निसिंग, गौतम ऋषि तीर्थ/गवेन्द्र तीर्थ गोंदर, दक्षेश्वर तीर्थ डाचर, जमदग्नि कुण्ड जलमाना, धनक्षेत्र तीर्थ असंध, दशाश्वमेघ तीर्थ सालवन, कोटि तीर्थ कुरनल तथा पंचदेव तीर्थ पाढा का दौरा किया। उन्होंने ग्रामीणों की मांग पर बस्थली खेल स्टेडियम नाम महर्षि व्यास के नाम पर रखने की घोषणा भी की। इसी प्रकार मुख्यमंत्री ने असंध दौरे के दौरान लोगों की मांग पर सालवन गांव को बला तहसील से असंध तहसील में शामिल करने की घोषणा भी की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुरुक्षेत्र जिले में पड़ने वाले 14 तीर्थ स्थलों के जीर्णोद्धार की घोषणा पहले ही की जा चुकी है। आज करनाल के तीर्थ स्थलों की घोषणा हुई है और शीघ्र ही पानीपत, कैथल व जींद जिलों में पड़ने वाले तीर्थ स्थलों के भी जीर्णोद्धार की घोषणा की जाएगी जिसके लिए शीघ्र ही वे इसी प्रकार का दौरा करेंगे। उन्होंने कहा कि कुरुक्षेत्र जिले में श्रद्धालुआें को इन तीर्थ स्थलों का भ्रमण करवाने के लिए 2 बसें चलाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि कुरूक्षेत्र व जींद के बीच दो विशेष बसें चलाई जाएंगी जो दो दिन तीर्थ यात्रियों को 48 कोस की परिधि में पड़ने वाले पांचों जिलों के तीर्थ स्थलों का भ्रमण करवाएंगी, जिसकी शुरूआत आज कुरूक्षेत्र से की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी तीर्थ स्थलों में महिमा पट्ट, शौचालय, महिलाओं के लिए अलग से घाट, भक्तजनों की सुविधा के अनुसार सीढि़यों का निर्माण, सरोवरों में जल निकासी के प्रावधान के साथ-साथ चारदीवारी, पार्किंग व्यवस्था तथा हाईमास्क लाईटें लगवाई जाएंगी।

उन्होंने कहा कि गांव के विकास कार्यों के लिए तो लोग कभी भी उनसे मिल सकते हैं परंतु आज उन्हें खुशी है कि तीर्थ स्थलों के रखरखाव व इनके महत्व को पुनर्जीवित करने के लिए भी लोगों का सामंजस्य देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि करनाल जिले में 48 कोस की परिधि में कुल 22 तीर्थ स्थल पड़ते हैं परंतु 13 तीर्थ स्थलों का एकसाथ दौरा करने का उनका कार्यक्रम तय हुआ था।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने सभी तीर्थ स्थलों पर पूजा अर्चना की व महंतों से आशीर्वाद भी लिया। उन्होंने तीर्थ स्थलों पर पौधारोपण भी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *