Home Breaking रोबेरी के चार साल बाद सरकार ने उठाया कदम, बैंक के लॉकर्स में रखे धन और गहनों पर रखी जाएगी नज़र

रोबेरी के चार साल बाद सरकार ने उठाया कदम, बैंक के लॉकर्स में रखे धन और गहनों पर रखी जाएगी नज़र

0
0Shares

बढ़ते अपराधों के चलते प्रदेश सरकार की चिंता बढ़ती जा रही है। प्रदेश सरकार लाकर्स में रखे सामान को सुरक्षित रखने के लिए कोई नई योजना बनाने की है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने केंद्रीय वित्त मंत्री को पत्र लिखा जिसमे सीएम ने उनका ध्यान लाकर्स में रखे मूल्यवान वस्तुओं के नुक्सान का उत्तरदायित्व तय करने की तरफ दिलाया।

खट्टर ने केंद्र सरकार को सुझाव दिया की लाकर्स में रखी वस्तुओं का खुलासा कराया जाना चाहिए।साथ ही कहा कि बहुमूल्य वस्तुओं का खुलासा होने से लॉकर्स को किराये पर लेने वाले लोगों के लिए बैंक आसानी से सामूहिक बिमा पॉलिसी खरीद सकते हैं।

अगर किसी कारण इसे अवैवाहिक माना जाता है तो लॉकर्स में रखे सामान को खुलासा करने का विकल्प दिया जा सकता है।
मुख्यमंत्री ने पत्र में कहा कि अगर बैंक लॉकर्स का बिमा नहीं कराते हैं तो भी कोई घटना होती भी है तो बैंक और सरकार को दावों का त्वरित निपटान करने में मदद मिलेगी। भारतीय रिज़र्व बैंक ने इस तरह के नुक्सान का आकलन करने के लिए अभी तक कोई मानदंड नहीं  बनाये हैं।

आपको बतादें की अक्टूबर 2014 में लुटेरों ने सोनीपत के गोहाना में पंजाब नेशनल बैंक के पड़ोस में खाली घर से बैंक तक 100 फीट लम्बी सुरंग खोदकर वारदात को अंजाम दिया था। इस दौरान बैंक के स्ट्रांग रूम में बने 360 लॉकर्स में से 86 तोड़े गए और उनमे रखा करड़ों रूपये का सामान लेकर फरार हो गए थे ।
हरियाणा के इतिहास में यह सबसे बड़ी बैंक रोबेरी थी। जिसके चार साल बाद सरकार ने कोई कदम उठाया है।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘युवा हरियाणा टॉप न्यूज’ में पढ़िए आज की सभी बड़ी खबरें फटाफट

Yuva Haryana, Top News Top News Yuva Haryana 05 july 1. हरिया…