सड़क पर आए कंप्यूटर ऑपरेटर्स, हड़ताल खत्म होने के बाद भी नहीं मिल रही ज्वाइनिंग

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Indervesh Duhan (Edited By: Shweta Kushwaha), Yuva Haryana
Bhiwani, 2 May, 2018

भिवानी में कंप्यूटर प्रोफेशनल ऑपरेटरों को सरकार के साथ हुए समझौते के बाद भी जिला प्रशासन द्वारा ज्वाइनिंग नहीं दी जा रही है। जिसके बाद प्रशासन के विरोध में कंप्यूटर ऑपरेटरों ने जिला सचिवालय के बाहर धरना दिया।

बता दें कि 15 से 27 अप्रैल तक प्रदेश के कंप्यूटर ऑपरेटर्स अपनी मांगों को लेकर पंचकूला में धरना प्रदर्शन कर रहे थे। लगातार 13 दिन चले इस धरने के बाद सरकार ने उनकी मांगों को मान लिया था।

जिसमें सीएम के प्रधान सचिव RK खुलर व सचिव सामान्य प्रशासन बिजेंद्रा, राज्य मंत्री कृष्ण बेदी के बिच हुए लिखित समझौते में कम्प्यूटर ऑपरेटरों की मुख्यरूप से 4 मांगों को मान लिया गया था।

जिसके बाद राज्य प्रधान हवासिंह तंवर सहित अनेक बेरोजगार युवकों ने बताया कि समझौते के बाद कंप्यूटर ऑपरेटरों को अपने- अपने कार्यालय में डयूटी संभालने के निर्देश दे दिए गए थे।

लेकिन भिवानी जिला प्रशासन ने जिला कार्यालय पहुंचे कंप्यूटर ऑपरेटरों को ज्वाइनिंग के लिए साफ तौर पर मना कर दिया। सीएम के प्रधान सचिव के आदेशों का उलंघन कर आपरेटर्स को ड्यूटी ज्वाइन नहीं करने दी गई।

राज्य प्रधान हवासिंह तंवर ने बताया कि समान काम, समान वेतन व सर्विस रूल लागू करना और जनवरी 2018 को करनाल में दर्ज हुए मुकदमों को खारिज करने व हड़ताल के दौरान व हड़ताल से पहले जिन कम्प्यूटर ऑपरेटरों को हटाया गया था। उन्हें पून: बहाल किए जाने के बारे में सरकार से सहमति बनी थी। जिस पर जिला प्रशासन पूरी तरह से अपनी मनमानी कर रहा है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी जिलो में कंप्यूटर ऑपरेटरों को ज्वाइनिंग दे दी गई है, तो यहां क्यों नहीं। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने जल्द ही प्रधान सचिव के आदेशों पर कार्रवाई नहीं की, तो विरोध प्रदर्शन किया जाएगा और पूरे प्रदेश में कंप्यूटर प्रोफेशनल संघ अनिश्चितकानील हड़ताल करने पर मजबूर होगा। जिसकी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

जब इस बारे में अतिरिक्त उपायुक्त से बातचीत की गई तो, उन्होंने कहा कि इसके बारे में उन्हें कोई आदेश प्राप्त नहीं हैं, वे ऐसे में ज्वाइनिंग नहीं दे सकते।

वही भिवानी की ई- दिशा केंद्र में कर्मचारी न होने से कुर्सियां खाली पड़ी थी और कामकाज के लिए आए छोटे- छोटे बच्चे व महिलाए अपने हाथों में फाइलें लेकर सुबह से इंतजार कर रहे थे कि केंद्र में खाली पड़ी कुर्सियों पर कब बाबू आए और उनका काम पूरा हो पर सुबह से शाम हो गई। लेकिन कोई नहीं आया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *