एडहॉक जेबीटी की पक्की नौकरी के खुले रास्ते, सारी समस्याएं हुई दूर

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Chandigarh, 23 July, 2018

एडहॉक पर लगे जे बी टी शिक्षकों की राह में अड़चन पैदा करने वाले 950 जेबीटी को अब एक कैडर छोड़ना पड़ेगा। जिसके लिए मौलिक शिक्षा निदेशालय ने 24 जुलाई तक का समय दिया है। यही कारण था की सरकार चाहते हुए भी लोअर रैंक के एडहॉक जे बी टी को पक्का नहीं कर पा रही थी। फरवरी 2012 में निकाली गई जे बी टी शिक्षक भर्ती में करीब 949 शिक्षक ऐसे हैं जिनका चयन दोनों कैडर में हुआ है। 750 शेष हरियाणा और 200 मेवात कैडर से है और इसके आलावा कुछ ऐसे शिक्षक भी हैं जिनका एक ही कैडर में दो बार चयन हो गया।

ऐसे में सभी शिक्षकों को 24 जुलाई को पंचकूला स्थित मौलिक शिक्षा निदेशालय तलब किया गया हैं। जहां 5 कमेटियां उन्हें उनकी पसंद के कैडर देंगी।

शिक्षकों से लिखित में लिया जाएगा की वह कौन सा कैडर चाहते हैं। संयुक्त निदेशक डॉक्टर दिलबाग सिंह व सहायक निदेशक सुमन अग्रवाल की कमेटी अम्बाला,चरखी दादरी,भिवानी, फतेहबाद और मौलिक शिक्षा की एडीओ पुष्पा व सहायक निदेशक कमलेश रानी, कैथल व करनाल के शिक्षको की काउंसलिंग कर उनके कैडर फाइनल करेंगी।

साथ ही 454 जेबीटी शिक्षक ऐसे हैं जिन्होंने अभी तक अंगूठे के सैंपल नहीं दिए और 500 शिक्षको ने ज्वाइन ही नहीं किया। सरकार इन शिक्षको के 950 पदों को खाली मानते हुए इन पदों पर भी एडहॉक पर लगे शिक्षकों को पक्का करने की तैयारी में हैं।

एडहॉक शिक्षकों के पक्का होने से लोअर रैंक के जेबीटी की स्कूलों में नियुक्ति की राह खुल जाएगी और अगर कोई शिक्षक कमेटी के पास नहीं पहुंचा तो मान लिया जायेगा की वह वर्तमान पोस्टिंग स्थल पर ही रहना चाहते हैं और उन्हें वही कैडर दे दिया जाएगा।