2016 जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुई हत्या मामले में कोर्ट ने सुनाई 3 आरोपियों को उम्र कैद की सजा

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Hisar, 30 Jan, 2019

फरवरी 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन के समय हुए दंगों के दौरान हत्या मामले में आज हिसार की स्थानीय अदालत ने 3 आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाई है। बता दें कि 2 फरवरी 2016 में हांसी के नजदीक ढाणी पाल गांव में विवाद के समय मिंटू गुर्जर नामक एक युवक की मौत हो गई थी, जिसके लिए पुलिस ने 6 लोगों को आरोपी बताया था।

जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान उपद्रव और फायरिंग में मिंटू गुज्जर की हत्या के मामले में ऐडीजे डीआर चालिया की अदालत ने तीन लोगों को आजीवन कारावास व जुर्माने की सजा सुनाई है। इनमें सिसाय निवासी दलजीत, सोनीपत निवासी पवन, दादरी निवासी सुरेंद्र शामिल है।

पुलिस के अनुसार 2016 में हासी एरिया में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान भीड़ ने जमकर उपद्रव मचाया था। उपद्रव के चलते 23 फरवरी 2016 को लालपुरा निवासी मिंटू को गोली मार थी। इस दौरान हांसी ऐरिया में सेना बुलानी पड़ी थी। सैनीपुर व ढाणीपाल गावों के ग्रामीणों के बीच टकराव हुआ था। उपद्रवियों ने ढाणियों ने तांडव मचाया था और आगजनी की थी। हांसी सिटी पुलिस ने इस संबंध में अलग -अलग धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस ने बाद में दलजीत पवन सुरेंद्र को गिरफ्तार किया था।

सीनियर एडवोकेट राजीव सरदाना ने बतााय कि अदालत ने तीन आरोपियों को आजीवन कारावास व 17500 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। उन्होंने बताया कि उपद्रव के चलत 23 फरवरी 2016 को लालपुरा निवासी मिंटू को गोली मार थी। पुलिस ने बाद में तीन को गिरफ्तार किया था और उनसे हथियार बरामद किए थे।  उन्होंने बताया कि इससे पहले अदालत ने दोषी करार दिया था और आज सजा सुनाई है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *