बुराड़ी कांड की गुत्थी को क्राइम ब्रांच ने सुलझाया?

Breaking अनहोनी बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Chandigarh

दिल्ली के बुराड़ी में हुई परिवार के 11 लोगों की मौत देश के लिए मिस्ट्री बन गई थी। लेकिन दिल्ली पुलिस ने इस केस को सुलझाने का दावा किया है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने  घर से 11 रजिस्टर प्राप्त किए है, जिनमें मौत की कहानी लिखी है। इस मौत में 11 का एंगल पूरी तरह से दिखता है।

किस तरह से 11 मौतों की कहानी  11 साल पहले शुरू होती है। जब परिवार के मालिक रिटायर्ड फौजी की मृत्यु हो गई थी। उसके बाद दुकान में आग लगने से ललित की आवाज का जाना। फिर शुरू होती है कहानी। माना जा रहा है कि परिवार के सबसे छोटे बेटे ललित के अंदर उसके पिता की आत्मा आने लगी थी। पिता की आत्मा के संदेश से ही घर में सब कुछ होता था।

जैसे जैसे आत्मा कहती ललित वैसे वैसे रजिस्टर में लिखता। रजिस्टर के मुताबिक आत्मा ने ललित के शरीर में आने के बाद  परिवार की काफी तरक्की करवाई। जहां ललित के पास के एक दुकान थी जो जल गई थी वहीं आत्मा के बाद ललित के पास और तीन दुकान हो गई थी। कहा जाता है कि भांजी प्रियंका मांगलिक थी जिसकी वजह से उसकी शादी नहीं हो रही थी। पिता की आत्मा ने ललित के शरीर में आकर कोई खास पूजा करने को कहा तो 17 जून को उसकी सगाई भी हो गई।

 

लेकिन मौत का रहस्य रजिस्टर में लिखी हुए बातों से खुला। ललित़ हर बात पहले से ही रजिस्टर में लिख लेता था। मानों यह कोई फिल्म की कहानी हो जो एक स्क्रिप्ट के हिसाब से चल रही हो।  एक दिन ललित में आत्मा ने आकर कहा कि 24 जून से 7 दिन तक सबने बड़ पूजा करनी है। यहीं बात ललित  ने परिवार को बताई कि हमें 24 जून से 7 दिन तक बरगद की तपस्या करनी है। इसके बाद हमारे दिन खुशहाल हो जाएंगे।

ललित के कहने पर ही परिवार 24 जून से रोज़ रात को पूजा करता था। रजिस्टर में लिखे अनुसार सबको एक साथ बरगद के पेड़ की तरह खड़ा होना था। जैसे वो खड़े हुए ये हादसा हो गया। पुलिस  का दावा है कि जब तमाम रजिस्टरों को पढ़ा तो पाया कि परिवार का खुदकुशी का कोई इरादा नहीं था। यह तपस्या वे अपने अच्छे भविष्य के लिए कर रहे थे, लेकिन एक हादसे के तौर पर उनकी मौत हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *