दलित सेना ने 9 अगस्त को भारत बंद करने का किया ऐलान

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Hisar

 

हिसार में दलित सेना के प्रदेशाध्यक्ष प्रवीन सभ्रवाल ने आज एक प्रैस वार्ता को संबोधित करते हुए ऐलान कर दिया है कि 9 अगस्त को भारत बंद किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति निवारण कानून 1989 में किए गए संशोधन को लेकर पूरे देश में इस जाति के लोगों के बीच काफी गुस्सा है। 20 मार्च 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने आदेश जारी किया कि अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण कानून में FIR दायर होने के बाद अग्रिम जमानत दी जा सकती है। जो दलित एक्ट के खिलाफ है।

लोक जनशक्ति पार्टी और दलित सेना इस मुद्दे को लेकर शुरु से मांग कर रही है कि एक्ट में किसी भी प्रकार का संशोधन अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के अधिकारों का हनन है। जिसको लेकर कहा है कि केंद्र सरकार अविलंब अध्यादेश लेकर आए या संसद के चालू सत्र में बिल को पेश करे।

उन्होंने बताया कि लोक जन शक्ति पार्टी की ओर से पार्टी के चेयरमैन चिराग पासवान ने 26 मार्च 2018 को सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पेटिशन भी दायर किया था। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम बिलास पासवान और पार्टी के पार्लियामेंटरी बोर्ड के चेयरमैन चिराग पासवान इस मुद्दे को लगातार उठा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि 23 जुलाई 2018 की एनडीए के सभी अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के संसद सदस्यों की बैठक 12 जनपथ, नई दिल्ली में हुई। बैठक में सभी सदस्यों की आम राय थी कि अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति एक्ट को दुरुस्त कर पूर्व की स्थिति में बहाल न करने के कारण पूरे देश के अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग के बीच गलत संदेश गया है। अत: अविलंब संसद में बिल लाकर दुरुस्त किया जाए। सभी संसद सदस्यों ने मांग की है कि सुप्रीम कोर्ट के जज ए.के. गोयल जिन्होंने अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति एक्ट में संशोधन कर दलितों के हित पर कुठाराघात किया है,

दलित सेना के प्रदेशाध्यक्ष प्रवीन सभ्रवाल ने कहा की हमारे समाज के लोगो ने जो पीछे आंदोलन किया था उसमे हिंसा करने वाले लोगों में हमारे समाज का कोई भी आदमी नहीं था और बाहर के लोगों ने हिंसा भड़काने का काम किया है। हमारे समाज के लोगों पर गलत केस बनाए गए है। बता दें कि 2 अप्रैल को दलितो ने भारत बंद बुलाया था जो हिंसक रूप ले चुका था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *