लड़की को लेकर पड़ोसियों से हुआ था झगड़ा, अब सड़क पर मिला युवक का शव

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Bhiwani, 9 Feb, 2019

भिवानी में गांव मानेहरू की तरफ बन रहे बाईपास पर शनिवार सुबह एक स्कूटी सवार युवक की मौत से सनसनी फैल गई। शुरुआती दौर में ये सड़क हादसा लग रहा था, लेकिन मौके पर पहुंचे पर परिजनों ने इसे हत्या बताते हुए शिकायत दर्ज करवाई। हत्या के पीछे किसी लड़की को लेकर हुए किसी विवाद की बात सामने आ रही है।

गांव साकरोड़ निवासी 32 वर्षिय प्रदीप दिल्ली इंदिरा गांधी एयपोर्ट पर ड्राईवर के पद पर तैनात था। वह पिछले कुछ 5-6 वर्षों से अपनी पत्नी के साथ भिवानी बालाजी मंदिर के पास रह रहा था। आज सुबह प्रदीप का शव मानेहरू गांव के पास निर्माणाधीन रोड़ पर पड़ा हुआ मिला। पास में ही उसकी स्कूटी व मोबाइल पड़ा था। सूचना पाकर सदर थाना पुलिस व परिजन मौके पर पहुंचे। शुरूआती दौर में ये सड़क हादसा लग रहा था, लेकिन परिजनों ने इसे हत्या का मामला बताया।

मृतक प्रदीप के भाई सुनील ने बताया कि उसका भाई रात करीब 9 बजे घर से किसी शादी में जाने की बात कह कर अपनी स्कूटी लेकर निकला था। उसने बताया कि आज सुबह जब इस हादसे की सूचना मिली, तो वो अपने पिता के साथ मौके पर पहुंचा और मौके पर हालात देख कर पता चला कि ये हादसा नहीं हत्या है। क्योंकि स्कूटी को कोई वाहन टक्कर मारता, तो स्कूटी भी क्षतिग्रस्त जरूर होती।

उसने बताया कि मौके पर स्कूटी बिलकुल सही हालत में मिली और उसके भाई की चप्पल कहीं नहीं मिली। सुनील का आरोप है कि प्रदीप का अपने पड़ोसियों से चार-पांच साल पहले एक लड़की को लेकर झगड़ा हुआ था। उन्होने बताया कि लड़की के परिजनों ने उसे जान से मारने की धमकी दी थी। उन्होने आशंका है कि आज उन्होंने ही उसके भाई को मार कर शव यहां फैंक दिया है।

वहीं मामले की जांच कर रहे सदर थाना के हैडकांस्टेबल छोटूराम ने बताया कि मृतक प्रदीप के भाई सुनील की शिकायत पर चार-पांच अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि अभी परिजनों ने आरोपियों के नाम व संख्या सही से नहीं बताई है।

प्रदीप की मौत और मौके के हालात अपने आप में इसे हादसे की बजाय हत्या करार दे रहे हैं। निर्माणाधीन रोड़ पर वाहनों की आवाजाही बहुत कम है। जो वाहन आता है, वो निर्माण के चलते बहुत धीमी गती से चलता है। ऐसे में हादसे की आशंका बुहत कम है। साथ ही स्कूटी की हालत सही होना और मृतक के शरीर पर चोट के गहरे घाव व उसकी चप्पल गायब होना, अपने आप में संदेह के घेरे में हैं।

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *