300 श्रमिकों वाली कंपनियां मर्जी से कर सकेंगी छंटनी, बंद करने का भी मिला अधिकार

Breaking Uncategorized चर्चा में बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Chandigarh, 29 August, 2018

हरियाणा सरकार ने एक ऐसा फैसला लिया है जो व्यापारियों और कंपनी मालिकों के हित में है लेकिन शायद इस फैसले का आम श्रमिकों पर काफी असर पड़ेगा। श्रम विभाग की तरफ से ऐसे उद्योगों को खुली छूट दी गई है जिनके यहां 300 तक श्रमिक काम करते हैं।

इस फैसले के बाद अब ऐसे उद्योग वाले श्रमिकों की नौकरी भी पक्की नहीं रहेगी और उद्योग भी बिना किसी की अनुमति के बंद किया जा सकता है। वहीं 50 श्रमिकों तक के मजदूरों को लाइसेंस लेने की भी जरुरत नहीं है।

सरकार के इस फैसले के बाद श्रमिकों को बड़ा झटका लगा है। हालांकि श्रम विभाग ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के तहत उद्यमियों को निवेश के लिए रिझाने के लिए यह बदलाव किया है। लेकिन इस फैसले के बाद श्रमिकों के शोषण का दायरा ओर ज्यादा बढ़ने की संभावना है।

पहले नियम के मुताबिक 100 से अधिक श्रमिकों वाले उद्योग को छंटनी, भर्ती या फिर बंद करने के लिए अनुमति लेनी पड़ती थी लेकिन अब इस नियम में बदलाव कर दिया गया है। इस फैसले के बाद श्रमिकों का आर्थिक शोषण होने की संभावना है।

इसी प्रकार के ठेका अधिनियम के तहत 20 से ज्यादा श्रमिकों के नियोजन वाले ठेकेदारों को भी लाइसेंस लेना होता था. लेकिन अब इसको भी बदल दिया गया है और अब 50 श्रमिकों को नियोजन वाले ठेकेदारों को लाइसेंस की जरुरत नहीं पडे़गी।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *