सांसद दीपेंद्र हुड्डा का सरकार को खुला चैलेंज, कहा बीजेपी मुकदमेबाजी छोड़ आए मैदान में 

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Jhajjar, 6 Sep, 2018

झज्जर पहुंचे सांसद दीपेन्द्र सिंह हुड्डा ने भजाप पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा सरकार पूरी तरह फेल साबित हुई है। अपनी विफलताओं को छुपाने के लिये व भूपेन्द्र सिंह हुड्डा जी की बढ़ती लोकप्रियता और हुड्डा के प्रति लोगों के विश्वास से घबराकर आनन- फानन में बदले की भावना से प्रेरित होकर उनपर निशाना साध रही है।

उन्होंने चुनौतीपूर्ण अंदाज में कहा कि भाजपा सरकारी तन्त्रों के पीछे छुपकर झूठे मुकदमे बनाने से बाज आए और खुले मैदान में आए। लोग सब समझते हैं और भाजपा की झूठ, फूट और लूट की कार्यशैली को पूरी तरह नकार चुके हैं।

होडल, समालखा, पुन्हाना, टोहाना और महेंद्रगढ़ जनक्रांति रैली में लाखों लोगों की हाजिरी से यह बात साफ़ समझ आती है कि प्रदेश के लोगों ने एक बार फिर भूपेन्द्र सिंह हुड्डा और कांग्रेस पार्टी के साथ चलने का मन बना लिया है।

9 सितम्बर को पेहोवा से शुरू होने वाली भूपेन्द्र सिंह हुड्डा की जनक्रांति यात्रा का छठवां चरण ऐतिहासिक होगा, जिसमे लाखों लोग शिरकत करेंगे। सांसद ने सभी को जनक्रांति यात्रा में पेहोवा पहुंचने का निमंत्रण देते  हुए कहा कि अब हमें मिलकर इस जनविरोधी और समाज को तोड़ने वाली विचारधारा से लड़ना है। प्रदेश को दोबारा भाईचारे और विकास के पथ पर लाना है।

भाजपा का मूलमंत्र है कि काम की बात छोड़ो, भाईचारा तोड़ो, हुड्डा सरकार के कामों से अपना नाता जोड़ो। भाजपा की इसी सोच और कार्यशैली के कारण प्रदेश का विकास और जनहित के तमाम काम ठप हो गए हैं। दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि हमारा ध्येय है कि हम अपने छत्तिस बिरादरी के भाईचारे को कभी किसी भी कीमत पर टूटने नहीं देंगे और आपकी पगड़ी को झुकने नहीं देंगे।

सांसद ने भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि अच्छे दिन के नाम पर भाजपा सरकार ने देश प्रदेश के लोगों को रिकॉर्ड महंगे डीजल और पेट्रोल के दाम का तोहफा दिया है। जिसने किसान समेत आम आदमी की कमर तोड़ने का काम किया है।

उन्होंने बताया कि हुड्डा सरकार के कार्यकाल में हरियाणा में वैट 7% था जो देश में सबसे कम था और चारों तरफ ये कहा जाता था कि सबसे सस्ता डीजल हरियाणा में है। मगर अब स्तिथि ठीक उसके विपरीत हो चुकी है, भाजपा सरकार ने अनापशनाप वैट और एक्साइज ड्यूटी का बोझ आम लोगों पर डाल दिया है।

आंकड़े देते हुए बताया कि 2014 में जब कच्चे तेल की कीमत 115 डॉलर प्रति बैरल था उस समय डीजल 57 रुपये प्रति लीटर था। लेकिन जब कच्चे तेल की कीमत अन्तराष्ट्रीय बाजार में आधी रह गई है, अब डीजल 70 रुपये लीटर से ज्यादा के दाम पर मिल रहा है।

किसान और मध्यम वर्गीय परिवारों पर कई गुना ज्यादा टैक्स थोप कर ज्यादा दाम की वसूली ने साबित कर दिया है कि यह सरकार पूरी तरह से असंवेदनशील है और इसको लोगों की तकलीफ से कोई सरोकार नहीं है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *