व्यवस्था परिवर्तन के लिए आगे आएं अधिवक्ता-दिग्विजय चौटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana

Jind, 18 Jan, 2019

देश में जब भी व्यवस्था परिवर्तन का कार्य हुआ है चाहे वो आजादी का आंदोलन रहा हो अथवा सत्ता परिवर्तन का, सत्ता अथवा व्यवस्था के इस परिवर्तन में अधिवक्ताओंं ने सदैव अग्रणीय भूमिका निभाने का कार्य किया है। जींद का यह उपचुनाव भी सत्ता एवं व्यवस्था परिवर्तन के लिए होने वाला आगाज है। प्रदेश में सत्ता परिवर्तन की शुरुआत भी जींद के इसी उपचुनाव से होगी। उन्होंने अधिवक्ताओं का आह्वान किया कि वे आगे आ कर सत्ता एवं व्यवस्था परिवर्तन के एक नए युग की शुरुआत करें। उक्त बातें जेजेपी प्रत्याशी दिज्विजय चौटाला ने उस समय कहीं जब वे गुरुवार को जींद बार एसोसिएशन में जेजेपी प्रत्याशी के पक्ष में मतदान का अनुरोध करने के लिए पहुंचे हुए थे। इस अवसर पर बार एसोसिएशन की तरफ से बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने दिज्विजय चौटाला का स्वागत करते हुए उन्हें हर संभव मदद का वादा किया।
इस अवसर पर बार रुम में उपस्थित अधिवक्ताओं को संबोधित करते हुए दिज्विजय चौटाला ने कहा कि यह बड़े दुख की बात है कि आज प्रदेश के सभी 22 जिलों में से जींद विकास के मामले में सबसे निचले पायदान पर खड़ा है। चाहे वो जींद को प्रदेश के अन्य जिलों से जोडऩे के लिए स्टेट हाईवे का मामला हो अथवा शहर के साथ गांवों को जोडऩे के लिए संपर्क मार्गों का, दोनो ही मामलों में जींद प्रदेश के अन्य जिलों की तुलना में काफी पिछड़ा हुआ है। शहर में स्थित कॉलोनियों एवं मुहल्लों की स्थिति भी काफी दयनीय है। उन्होंने कहा कि आधारभूत संरचनाओं के विकास के बिना किसी क्षेत्र के विकास की कल्पना ही नहीं की जा सकती। ऐसी स्थिति में निवेशक भी ऐसे क्षेत्रों में आना पसन्द नहीं करते और उद्योग धंधों की स्थापना नहीं हो पाती है। जब उद्योग ही नहीं स्थापित होंगे तो रोजगार का सृजन कैसे होगा। फलस्वरुप क्षेत्र के युवा रोजगार के लिए भटकते नजर आते हैं अथवा अपने गांव अपने शहर से पलायन के लिए मजबूर हो जाते हैं।
उन्होंने कहा कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा के मुख्यमंत्रित्व काल में प्रदेश सरकार के मंत्रिमंडल में जींद जिले से तीन-तीन कैबिनेट मिनिस्टर शामिल थे। यही नहीं वर्तमान में भी जब देश एवं प्रदेश दोनो जगह भाजपा की सरकार है ऐसी स्थिति में जींद जिले से ही चौधरी बिरेन्द्र सिंह मोदी सरकार में न केवल कैबिनेट मिनिस्टर हैं बल्कि मोदी सरकार में प्रोटोकॉल की दृष्टि से वे ही हरियाणा के सबसे शक्तिशाली मंत्री हैं। लेकिन इसके बावजूद जींद की दशा नहीं सुधरी। सच तो यह है कि चाहे वो भाजपा के मंत्री हों या फिर कांग्रेस के मंत्रीगण रहे हों जींद की बदहाल स्थिति को सुधारने में किसी ने भी रुचि नहीं दिखलायी। इन लोगों ने तो जींद को केवल एक ऐसी सीढ़ी के रुप में इस्तेमाल किया जिसके उपयोग के पश्चात उन्हें इसकी उपयोगिता ही नहीं नजर आती है। अब जींद उपचुनाव आते ही प्रदेश के मुख्यमंत्री से लेकर प्रदेश की भाजपा सरकार के सभी मंत्रियों को कैसे जींद के प्रति इतना प्यार उमड़ आया यह एक अनुत्तरित प्रश्र है।
जेजेपी प्रत्याशी ने कहा कि हालात इतने बदतर हैं कि शहर में चारों तरफ गंदगी के ढेर लगे हुए हैं। सर्वत्र फैले इन गंदगी के ढेरों की वजह से इन क्षेत्रों के लोग नारकीय जीवन जीने के लिए मजबूर हैं। हुड्डा के सेक्टरों और कालोनियों में सडक़ें तो कहीं नजर ही नहीं आतीं। नागरिकों के घूमने और बच्चों के खेलने के लिए पार्कों की दशा भी ठीक नहीं है।
दिग्विजय चौटाला ने कांग्रेस प्रत्याशी से सवाल किया कि जो लोग अब जींद के विकास और जींद की जिंदगी की बदलने की बात कर रहे हैं वे जींद की जनता को बताएं कि कांग्रेंस के एक दशक के शासनकाल में कैबिनेट मंत्री के रूप में रणदीप सुरजेवाला ने जींद के लिए क्या किया।
उन्होंने भाजपा सरकार पर भी जमकर प्रहार किए और कहा कि जो साढ़े चार वर्षों में जींद जिले की सडक़ों की मरम्मत तक नहीं करवा सके, भाजपा में आगामी दस माह में विकास करवाने के दावों में दम कहां से आ जाएगा। उन्होंने कहा कि जींद के विधायक स्व. हरिचंद मिढ््ढा जी जींद में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने की मांगें विधानसभा में उठाते रहे परन्तु मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मिढ्ढा जी की आवाज को अनसुना कर दिया। दिग्विजय चौटाला ने कहा कि मैं जींद की जनता से वायदा करता हूं कि दस माह की इस छोटी अवधि में जींद की अनेदखी करने वालों को चैन से नहीं बैठने दूंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *