भाजपा ने स्वीकार किया जींद के साथ सौतेलेपन की बात-दिग्विजय चौटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana,

Jind, 22 Jan,2019

जींद उपचुनाव में प्रचार के दौरान जेजेपी प्रत्याशी दिग्विजय चौटाला ने सीएम खट्टर पर जींद के विकास को लेकर जम कर हमला बोला।भाजपा सरकार द्वारा पिछले साढ़े चार वर्षों के कार्यकाल के दौरान जींद के विकास के लिए 45 करोड़ रूपये खर्च करने का बखान कर स्वयं अपनी पीठ थपथपाने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए जेजेपी प्रत्याशी दिग्विजय चौटाला ने कहा कि कि सच तो यह है कि भाजपा द्वारा बताई गई यह राशि जींद के विकास के लिए ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। भाजपा को यह भी बताना चाहिए कि इसी कार्यकाल के दौरान गुडग़ांव, फरीदाबाद तथा करनाल सहित अन्य जिलों में प्रत्येक के विकास पर कितनी राशि खर्च की गई।

दिग्विजय चौटाला ने आज जींद शहर में अर्बन स्टेट में आयोजित विभिन्न नुक्कड् सभाओं में संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने स्वयं मान लिया है कि जींद में पिछले चार वर्षों के दौरान कोई विकास कार्य नहीं हुए और उनके कार्यकाल के दौरान एक किलोमीटर नई सड़क का निर्माण अथवा मरम्मत का कार्य नहीं किया गया।

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा पेश आंकड़ों के मुताबिक अब तक जींद जिले में मात्र 45 करोड़ रूपये विकास कार्य करवाए गए हैं जबकि इस सरकार के साढ़े चार वर्ष से अधिक का समय बीत चुका है। जेजेपी प्रत्याशी ने कहा है कि यदि इस राशि का वर्ष बार ब्यौरा देखा जाए तो मनोहर लाल खट्टर सरकार ने एक वर्ष में औसतन 10 करोड़ भी जींद जिले के विकास कार्यों के लिए खर्च नहीं किए। दिग्विजय चौटाला ने कहा कि सरकारी रेट मुताबिक सामान्य सड़क बनाने में 75 लाख से एक करोड़ रूपये एक किलोमीटर पर खर्च करने पड़ते हैं। तथ्य यह है कि जींद शहर, गांव को जाने वाले रोड़, कालोनी के रोड, सेक्टर के रोड सहित सारे रोड जर्जर हालत में हैं। भाजपा द्वारा पेश आंकड़ों में कहीं कोई जिक्र नहीं है।

उन्होंने 100 से 200 बेड क्षमता करने पर कहा कि बेड तो धर्मशाओं में बहुत होते हैं और लोगों को निजी अस्पतालों में नहीं जाना पड़ता। जेजेपी प्रत्याशी ने कहा कि इलाज के लिए अस्पतालों में डाक्टर दवाईयां, उपकरण, नर्सिंग स्टाफ सहित अन्य सुविधाओं की भी जरूरत होती है। जींद के सरकारी अस्तपाल में वर्तमान में 55 डाक्टरों के पद स्वीकृत हैं और इनमें से दो तिहाई डाक्टरों के पद खाली हैं। यही हाल नर्सिंग स्टाफ और चिकित्सा उपकरणों का है।

उन्होंने कांग्रेस व भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जींद में आज भी लोगों के पेय जल सप्लाई करने के लिए वाटरवक्र्स नहीं है। यहां  शहर में पेयजल की आपूर्ति की जा रही है, वह गुणात्मक रूप से पशुओं के पीने लायक भी नहीं है। कांग्रेस ने पिछले दस वर्षों में एक भी वाटरवक्र्स बनाया जबकि रणदीप सुरजेवाला स्वयं जनस्वास्थ्य मंत्री थे। मनोहर लाल खट्टर सरकार ने भी साढ़े चार वर्षो के दौरान वाटरवक्र्स तक नहीं बनवा पाई।

दिग्विजय चौटाला ने भाजपा के औद्योगिक विकास के दावों पर प्रहार करते हुए कहा कि सीएम बताएं कि उनके शासनकाल में एक भी उद्योग धंधा जींद में क्यों नहीं लगाया गया जबकि जींद जिले से केंद्र में बिरेंद्र सिंह इस्पात मंत्री हैं और ग्रामीण विकास मंत्रालय मोदी सरकार में इस्पात मंत्रालय से पूर्व उनके पास था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *