दिव्यांग अधिकार अधिनियम 2016 को लागू करने की मांग को लेकर 22 दिन से भिवानी में दिव्यांग धरने पर

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

Indervesh Duhan, Yuva Haryana

Bhiwani (23 April 2018)

भिवानी लघु सचिवालय के बाहर पिछले 22 दिनों से अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे विकलांग अधिकार संगठन से जुड़े दिव्यांगों ने आज भिवानी जिला प्रशासन का पुतला फूंका तथा प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की । धरने पर बैठे इन दिव्यांगों की मांग है कि 17 दिसंबर 2016 को संसद में दिव्यांग अधिकार अधिनियम के तहत दिए जाने वाले विभिन्न प्रकार के लाभ उन्हे उपलब्ध करवाए जाएं।

इस मौके पर एडवोकेट संजय कुमार ने बताया कि 22 दिन से उपायुक्त कार्यालय के बाहर टैंट लगाकर धरना दे रहे दिव्यांगों का समर्थन करने अब तक विभिन्न राजनीतिक और सामाजिक संगठनों के लोग इनके बीच पहुंचकर इनका समर्थन कर चुके हैं, परन्तु अभी तक प्रशासन की तरफ से दिव्यांगों के इस धरने की सूध लेने कोई प्रशासनिक अधिकारी नहीं पहुंचा है। जबकि दिव्यांग अधिकार अधिनियम के तहत दिव्यांगों की शिक्षा, सुरक्षा तथा भोजन के अधिकारों को लागू करने का कार्य प्रशासन का ही होता है।
जिसके चलते 22वें दिन रोष स्वरूप दिव्यांगों ने भिवानी जिला प्रशासन का पुतला फूंका तथा कहा कि यदि उनकी मांगें अब भी नहीं सुनी जाती है तो वे हरियाणा के मंत्री कृष्ण बेदी, मुख्यमंत्री का पुतला फूंकने को भी मजबूर होंगे।

उन्होंने कहा कि क्योंकि दिव्यांग अधिकार अधिनियम के तहत जिला प्रशासन का कार्य है कि दिव्यांगों के बीपीएल राशन कार्ड बनवाएं, पेंशन, मनरेगा, जॉब कार्ड, 100 वर्ग गज के प्लॉट, दिव्यांग महिलाओं को आंगनबाड़ी या आशा वर्कर नियक्त होने में प्राथमिकता, सार्वजनिक कार्यालयों में दिव्यांगों के बाधा रहित वातावरण तैयार करना, साथ ही उनके रहने-खाने के अधिकार की रक्षा प्रशासन की जिम्मेवारी बनती है।

दिव्यांगों को विभिन्न विभागों द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं को लागू न करने को लेकर वे इस धरने पर बैठे है। बहुत सी मांगों को लेकर राज्य स्तर पर डेलीगेट बनाकर वे मुख्यमंत्री से भी मिल चुके हैं। मुख्यमंत्री से बातचीत सिरे चढऩे के बाद भी उनकी मांगों को जिला प्रशासन अब भी पूरा नहीं कर रहा है, इसी के चलते उन्होंने आज भिवानी जिला प्रशासन का पुतला फूंका है।

Read This Story

मां के साथ सो रही बेटी को ले गए उठाकर, संदूक में रखा बंद, रेप की संभावना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *