दिव्यांग होने के बावजूद भी नहीं हारी हिम्मत, अंग्रेजी में P.H.D करके ही लिया दम

युवा

Yuva Haryana

Faridabad, 29-03-2018

आपने यह तो सुना होगा कि अगर इंसान के इरादे मजबूत हो, तो वह कुछ भी कर सकता है। इसका एक उदाहरण है, फरीदाबाद के सरकारी स्कूल में कार्यरत अंग्रेजी की प्राध्यापिका मंजुला। मंजुला ने दिव्यांग होने के बावजूद भी हिम्मत नहीं हारी और अपने इरादों को मजबूत रखा। अब उन्होंने पीएचडी कर, ड़़ॉक्टर की उपाधि हासिल कर ली।

इसी साल 2018 में अंग्रेजी में PhD कर परिवार का ही नहीं, बल्कि फरीदाबाद का भी नाम रोशन किया है। मंजुला हरियाणा प्रदेश के विभिन्न स्कूलों में 22 वर्षों से छात्रों का मार्गदर्शन कर रही हैं। अपना शुरूआती सफर उन्होने सांईस की अध्यापिका के तौर पर किया था

वह फरीदाबाद के सराय स्थित सीनियर सैंकडरी स्कूल में प्राध्यपिका के तौर पर कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *