सरकारी अस्पताल से डॉक्टर गायब, कंप्यूटर ऑपरेटर लिख रहा है दवाईयां

Breaking बड़ी ख़बरें सेहत हरियाणा

सौरभ वर्मा (युवा हरियाणा)
पलवल (18 मार्च 2018)

पलवल के टप्पा गांव का यह सरकारी अस्पताल है. यहां कहने को तो डॉक्टर और स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर है, लेकिन जब यहां पर कैमरा पहुंचा तो सब कुछ ठीक नहीं पाया गया । यहां पर डॉक्टर गायब मिले और कंप्यूटर ऑपरेटर ही डॉक्टर बना दिखाई दिया।

सरकारी अस्पताल में बदहाली की यह पहली तस्वीर नहीं है, बल्कि प्रदेश के ज्यादातर सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाएं दम तोड़ रही है. पलवल के टप्पा गांव के सरकारी अस्पताल में डॉक्टरों को तैनात किया गया है, लेकिन डॉक्टर की कुर्सी खाली पड़ी है।

यहां पर सैंकड़ों मरीज अपने इलाज के लिए आते हैं, ऐसे में जब डॉक्टर नहीं है तो यहां पर तैनात कंप्यूटर ऑपरेटर ही डॉक्टर बन बैठा है. वो मरीजों से उनकी बीमारी का पूछ रहा है. पर्ची पर कुछ नोट कर रहा है और उसके बाद उनको दवाईयां बांट रहा है।

हरियाणा में स्वास्थ्य सुविधाओं में लापरवाही का खेल बदस्तूर जारी है. कुछ दिन पहले ही पलवल में महिला डॉक्टर की लापरवाही से जच्चा-बच्चा की जान गई थी वहीं अब यहां पर मरीजों की सेहत से फिर खिलवाड़ हो रहा है।

जिसकी जिम्मेदारी कंप्यूटर संभालने की है और कागजी कार्रवाई करने की है वह शख्स यहां पर डॉक्टर बनकर लोगों के दर्द का मर्ज ढूंढ रहा है. मरीज भी इससे दवाईयां लिखवा रहे हैं. और इन दवाईयों का सेवन भी कर रहे हैं।

यहां पर आने वाले ग्रामीण बताते हैं कि पिछले कई सालों से यहां पर इसी प्रकार से चल रहा है. डॉक्टर नहीं पहुंचते हैं तो कंप्यूटर ऑपरेटर ही लोगों को दवाईयां लिखकर देता है। वहीं गंभीर बीमारी होने पर मरीजों को सरकारी नहीं बल्कि निजी अस्पतालों में ही जाना पड़ता है।

बताते हैं कि जब अस्पताल बना था तो यहां पर एक चिकित्सक, एक फार्मासिस्ट, एक वार्ड ब्वाय व एक सफाई कर्मचारी की नियुक्ति हुई थी। लेकिन पिछले काफी दिनों से यहां पर डॉक्टर नहीं है. जिस वजह से कंप्यूटर ऑपरेटर ही दवाईयां देता है।

बड़ी बात यह भी है कि इस अस्पताल में डॉक्टरों को लेकर सीएमओ वीर सिंह सहरावत को जानकारी तक नहीं है. वो सिर्फ जांच और कार्रवाई की बात ही कहते नजर आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *