गूंगा-बहरा यह व्यक्ति ऐसे कर रहा है अपने परिवार का पालन-पोषण

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Kamarjeet Singh Virk,  Yuva Haryana,

Karnal, 09 Mar,2019

इंसान की कमजोरी और उसकी ताकत उसकी सोच पर निर्भर करती है, अगर सोच पक्की हो तो आदमी कभी हार नही सकता। अपनी कमजोरी को अपनी ताकत बना चुका करनाल के घोग्डीपुर का दीपक जो ना ही कुछ बोल सकता है और ना ही कुछ सुन सकता है, लेकिन इसके बावजूद भी दीपक के होंसले बुलंद हैं।

ई-रिक्शा चला कर अपने परिवार का पालन-पोषण करने वाले दीपक को जिंदगी से कभी शिकायत नहीं रही। 32 वर्षीय दीपक ने अपनी ई रिक्शा पर कुछ बैनर लगाए हुए जिसमें लिखा हुआ है “आपको कहा जाना है, हाथ लगाओ, रास्ता बताओ, मैं गुंगा बहरा हुं।”

दीपक ई-रिक्शा चलाते वक्त अपना ध्यान आगे और शीशे पर वह हर वक्त रखता है, ताकि उसकी नजर आगे वाली गाडियों और पीछे से आने वाली गाडियों पर बनी रहे और वह आराम से ई रिक्शा चला सके कुछ लोग दीपक का मजाक भी उड़ाते है तो कुछ ऐसे भी लोग है जो उसकी और उसके काम की बेहद तारीफ करते है।

दीपक मुसाफिरों को शहर के अलग- अलग जगहों की तस्वीरें और नाम को दिखाकर, मुसाफिरों से उनकी मंजिल के बारे में पूछता है और फिर उन्हें उनकी मंजिल पर पहुंचाता है। इस तरह दीपक रोजाना 500 रुपए तक की कमाई कर लेता है।  रोजाना 500 की कमाई करके जब वह घर जाता है तो उसे अपनी मेहनत की कमाई की रोटी खाकर खुशी मिलती है, जो आदमी मांगकर कभी नही पा सकता।

दीपक उन्हीं लोगों में से एक है, जो भगवान की मार सहने के बावजूद जिंदगी से लड़ने का दम रखते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *