किसानों का गला घोंटना चाहती है खट्टर सरकार, सही लागत देने की बजाय रोज लाद रही नए कानून – दुष्यंत चौटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 27 July, 2019

पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला ने गन्ना किसानों के लिए अपनी फसल का ब्यौरा 31 जुलाई तक सरकारी पोर्टल पर ऑनलाइन देने के राज्य सरकार के आदेश को पूरी तरह गलत बताया है। जन चौपाल कार्यक्रम के तहत कैथल के गांवों में पहुंचे दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जिस तरह भाजपा सरकार आए दिन किसानों पर नए-नए कानून थोप रही है, उससे लगता है कि सरकार की मन्शा किसानों का गला घोंटने की है।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सरकार ने किसानों, यहां तक कि किसान यूनियन या संगठनों, किसी से भी सलाह किये बिना फसल के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन का सिस्टम शुरू कर दिया जबकि इसके लिए ना तो किसानों के पास ट्रेनिंग है, ना ही सरकार की तरफ से कोई सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई हैं। उन्होंने कहा कि कस्सी-दरांती और ट्रैक्टर चलाकर मिट्टी के साथ मिट्टी होकर रहने वाला किसान अचानक लैपटॉप या मोबाइल उठाकर सरकार की मांगी हुई जानकारी कैसे अपलोड कर सकता है। दुष्यंत ने कहा कि हरियाणा सरकार किसानों और खेती को समझने में पूरी तरह नाकाम हुई है।

जेजेपी नेता दुष्यंत ने सरकार से मांग की है कि इस सिस्टम को फिलहाल स्थगित कर पूरी तैयारी और किसानों से सलाह मश्विरा कर ही लागू करे। विशेषकर गन्ना किसानों के लिए जारी किए गए आदेश को तुरंत वापिस लेने और 31 जुलाई की तारीख को आगे बढ़ाने या इस साल के लिए नियम को टालने की मांग दुष्यंत ने मुख्यमंत्री और राज्य के कृषि मंत्री से की।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सरकार कभी बिना वस्तुस्थिति को समझे किसानों से फसल चक्र बदलने को कहती है और कभी कहती है कि फलां फसल की प्रति एकड़ इतने क्विंटल उपज ही खरीदेंगे। इसी तरह निजी कम्पनियों के जरिए फसल बीमा भी आज तक किसानों के लिए पहेली बना हुआ है। उन्होंने कहा कि सूरजमुखी के किसान आज तक अपनी फसल के बिकने का इंतज़ार कर रहे हैं और पानी की टंकी पर चढ़कर आत्महत्या की चेतावनी देने को मजबूर हैं।

इसी तरह पहले हिसार के नलवा क्षेत्र के किसान और अब नरवाना के धरोदी क्षेत्र के किसान नहरी पानी की उचित व्यवस्था के लिए धरने पर बैठे हैं। राज्य सरकार किसानों की वाजिब और जरूरी मांगों को पूरा करने में पूरी तरह विफल रही है।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि लगता है हरियाणा सरकार के नेता गमलों में खेती करते रहे हैं, तभी वे हरियाणा के धरतीपुत्रों और देश के अन्नदाताओं की समस्याओं और जरूरतों को समझने में नाकाम रहे हैं। उन्होंने इस बात पर चिंता जताई कि कैसे कृषि प्रधान हरियाणा की सरकार किसानों से इतनी दूरी बनाकर चलाई जा रही है और किसानों से जुड़ी योजनाएं चंडीगढ़ के एयर कंडीशन्ड कमरों में बन रही हैं।

जन चौपाल कार्यक्रम के दौरान दुष्यंत चौटाला को कैथल क्षेत्र के गांवों में कैंसर, टीबी, पीलिया जैसी बिमारियां पैर पसारने की समस्या भी पता चली। लगभग सभी गांवों में पीने के साफ पानी की समस्या मिली और सरकारी स्वास्थ्य सेवाएं ना के बराबर हैं। उन्होंने ग्रामीणों से वादा किया कि जेजेपी की सरकार बनते ही हर हरियाणवी को साफ पेयजल का अधिकार दिया जाएगा। दुष्यंत चौटाला ने गांव की महिलाओं से बात की तो उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों मे शराब के ठेके एक बड़ी दिक्कत है जिसका समाधान वे चाहती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *