हम लक्ष्य से भटकने वाले नहीं, जींद का विकास ही है हमारा मुख्य चुनावी मुद्दा: दुष्यंत चौटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana,

Jind, 23 Jan,2019

हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जींद के इस उपचुनाव में दिन प्रतिदिन जननायक जनता पार्टी की बढ़ती लोकप्रियता और जेजेपी प्रत्याशी दिग्विजय चौटाला की जीत सुनिश्चित देख कर विरोधी दलों को अपनी जमीन खिसकती हुयी नजर आ रही है। यही कारण है कि पिछले कुछ दिनो से विरोधी दलों के लोगों द्वारा हमें हमारे लक्ष्य से भटकाने की साजिशें रची जा रही है। लेकिन मै उन्हें स्पष्ट रुप से यह कह देना चाहता हूं कि हम लक्ष्य से भटकने वाले लोगों में से नहीं हैं। जिस प्रकार से अर्जुन ने अपना सारा ध्यान मछली की आंख पर केन्द्रित रखा हुआ था ठीक उसी प्रकार से हमारा सारा ध्यान पिछले 52 वर्षों से जींद के साथ हो रहे अन्याय को समाप्त कर जींद के चहुंमुखी विकास के लक्ष्य को हासिल करने पर केन्द्रित है। हम इस लक्ष्य को हासिल कर के ही रहेंगे।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हमने यूं ही नहीं जींद को अपनी कर्मभूमि बनाने का फैसला लिया है। दरअसल हमने यह देखा कि प्रदेश की राजनैतिक राजधानी के रुप में अपनी पहचान रखने वाला जींद ही राजनैतिक उपेक्षा का सर्वाधिक शिकार है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि यह अत्यंत दुख का विषय है कि हरियाणा के एक अलग राज्य के रुप में गठन के 52 वर्षों के पश्चात आज भी प्रदेश के सबसे प्राचीन जिलों में शामिल जींद अपनी बदहाल स्थिति पर आंसू बहाता हुआ नजर आता है।

स्वतंत्रता प्राप्ति के 72 वर्षों के पश्चात आज भी जींद के निवासी बिजली-पानी तथा सड़क एवं सीवर जैसी मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं। यही कारण है कि एक समय हरियाणा प्रदेश की आन-बान और शान के रुप में अपनी विशेष पहचान रखने वाला जींद आज विकास के मामले में प्रदेश में सबसे पिछड़ा हुआ नजर आता है। जींद की इस बदहाल स्थिति के जिम्मेदार लोगों को सबक सिखाने सहित जींद को इस दुर्दशा से छुटकारा दिलवाने के लिए ही हमने जींद को अपनी कर्मभूमि बनाने का फैसला लिया है।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जब हमने जींद के साथ हो रहे इस उपेक्षात्मक व्यवहार को लेकर अपनी आवाज बुलंद करनी शुरु की और जींद के इस उपचुनाव में जींद के विकास को ही मुख्य मुद्दा बना दिया तो यह प्रदेश में सत्तारुढ़ भाजपा सरकार सहित कांग्रेस एवं अन्य विरोधी दलों को नागवार गुजरने लगा। दरअसल धर्म एवं जाति के नाम पर लोगों को बांट कर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने वाली भाजपा और आकंठ भ्रष्टाचार में डूबी कांग्रेस के साथ ही साथ मुद्दा विहीन हो चुके अन्य राजनैतिक दलों के पास कोइ ठोस मुद्दा ही नहीं है। जींद की इस दुर्दशा के लिए ये सभी दल बराबर के जिम्मेदार हैं। यही नहीं जब जींद की जनता ने इस मुद्दे पर हमारा साथ देना शुरु कर दिया तो इन विरोधी दलों को अपनी जमीन खिसकती हुयी नजर आने लगी।

जींद में जननायक जनता पार्टी की दिन प्रतिदिन बढ़ती लोकप्रियता एवं जेजेपी प्रत्याशी दिग्विजय चौटाला की जीत सुनिश्चत देख कर ये सभी दल बौखला चुके हैं। यही कारण है कि ये सभी राजनैतिक दल मिल कर हमारे खिलाफ साजिश रचने का काम कर रहे हैं। यदि आप पिछले दो दिनो के समाचार पत्रों पर नजर डालेंगे तो सभी राजनैतिक दल केवल दुष्यंत और दिग्विजय का रास्ता रोकने के लिए ही अनर्गल बयानबाजी करते नजर आएंगे।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि चुनाव में जनता से जुड़े मुद्दों की बात करनी चाहिए, क्षेत्र के विकास की बात करनी चाहिए। लेकिन भाजपा, कांग्रेस और अन्य विरोधी दलों का इन बातों से कोई लेना देना नहीं है। इन्हें जींद की बदहाल स्थिति नहीं दिखलायी पड़ रही है। इन लोगों को जींद में आधारभूत संरचना की कमी नहीं नजर आती है। इन्हें शहर की टूटी फूटी सड़कें नहीं दिखलायी पड़ती हैं।

जींद के सरकारी अस्पताल की दुर्दशा और अस्पताल में चिकित्सकों की कमी इन्हें नहीं नजर आती है। क्षेत्र में स्थित सरकारी स्कूलों की बदहाल स्थिति और इन स्कूलों में शिक्षकों का अभाव भी इन्हें नहीं नजर आता है। क्षेत्र में दिन प्रतिदिन बढ़ती बेरोजगार युवाओं की फौज भी इन्हें नहीं दिखलायी पड़ती है। आजादी के 72 वर्षों के पश्चात आज भी जींद के निवासी मूलभूत सुविधाएं शुद्ध पेयजल, बिजली-पानी तथा सड़क एवं सीवर जैसी समस्याओं से जूझ रहे हैं, यह भी इन्हें नहीं दिखलायी पड़ रहा है। ये तो केवल ये देखने में व्यस्त हैं कि आज कल दुष्यंत और दिग्विजय के परिवार में क्या हो रहा है।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि चाहे कांग्रेस के दस वर्ष के कार्यकाल की बात की जाए या फिर भाजपा के साढ़े चार वर्ष की, इन दोनो ही दलों ने अपने कार्यकाल के दौरान जींद के विकास के लिए कुछ भी नहीं किया। यदि आप जींद शहर में चारों तरफ घूम कर देखेंगे तो आप को स्वयं यह नजर आ जाएगा कि इन्होंने जींद के साथ किस कदर सौतेला व्यवहार किया है। चाहे वो बिजली-पानी, सीवर सड़क जैसी मूलभूत सुविधाओं की बात हो या फिर शिक्षा एवं स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दे। आधारभूत संरचना के विकास की बात हो या फिर जींद के युवाओं को रोजगार प्रदान करने की। इन सभी मुद्दों को जेजेपी प्रत्याशी दिग्विजय चौटाला द्वारा इतने जोर शोर से उठाया गया कि विरोधी दलों के होश ही उड़ गए। क्षेत्र में दिन प्रतिदिन जेजेपी प्रत्याशी दिग्विजय चौटाला की बढ़ती लोकप्रियता एवं जींद के इस उपचुनाव में उनकी जीत सुनिश्चित देख कर विरोधी इतनी ओछी हरकतों पर उतर आएंगे, इसकी मैने कल्पना भी नहीं की थी। उन्होंने कहा कि आज इन विरोधी दलों के लोगों का ध्यान अपने प्रत्याशी को विजयी बनाने से ज्यादा दिग्विजय को रोकने पर लगा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *