विकास की दौड़ में कछुए को मात देने वाले करते हैं दौड़ में जीतने का दावा: दुष्यंत

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana,

Jind, 21 Jan, 2019

भाजपा एवं कांग्रेस प्रत्याशियों द्वारा चुनाव आते ही जींदवासियों के प्रति दिखलाए जा रहे झूठे प्रेम और जींद के विकास का वादा करने वाले दावों को झूठ का पुलिन्दा बताते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि दरअसल ये लोग क्षेत्र के विकास को लेकर जरा भी गंभीर नहीं हैं। ये तो केवल चुनाव आने पर क्षेत्रवासियों को सपने दिखलाने का काम शुरु कर देते हैं।
उन्होंने कहा कि यदि भाजपा एवं कांग्रेस जींद के विकास को लेकर जरा भी गंभीर होते तो आज जींद में एक दशक पूर्व शुरु किए गए 12 किलोमीटर लंबे बाईपास का निर्माण कार्य आज अधूरा नहीं पड़ा रहता। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जो लोग 11 वर्षों के कार्यकाल के दौरान केवल 12 किलोमीटर की एक सड़क का निर्माण नहीं करवा सके वे अगले दस माह के कार्यकाल में जींद का के चहुंमुखी विकास का दावा करते फिर रहे हैं, यह अत्यंत हास्यास्पद स्थिति है। उक्त बातें दुष्यंत चौटाला ने सोमवार को उस समय कहीं जब वे अपने जनसंपर्क कार्यक्रम के अन्तर्गत शहर के विभिन्न क्षेत्रों में आयोजित जनसभाओं को संबोधित कर रहे थे।
दुष्यंत चौटाला ने बताया कि 3 फरवरी 2008 को तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा सहित प्रदेश सरकार के सात माननीयों जिसमें रणदीप सुरजेवाला भी शामिल थे, की उपस्थिति में जींद के इस 12 किलोमीटर लंबे बाईपास की आधारशिला रखी गयी थी। प्रमाण के लिए यह शिलालेख आज भी वहां मौजूद है जिस पर सुरजेवाला का नाम भी अंकित है। लेकिन हर बार की तरह इस बार भी इन नेताओं द्वारा जींद के विकास के नाम पर किया गया यह शिलान्यास एक छलावा साबित हुआ और शिलान्यास के 11 वर्ष व्यतीत होने के बावजूद आज भी यह बाईपास आवागमन के लिए शुरु नहीं हो सका है।
दुष्यंत ने कहा कि सत्ता में आने के पश्चात भूल कर भी जींद की तरफ नहीं देखने वाले ये नेता चुनाव आते ही जींद की ओर दौड़े चले आते हैं। उन्हें लगता है कि जींद की भोली-भाली जनता को बहलाना फुसलाना सबसे ज्यादा आसान कार्य है। लेकिन मैं इन नेताओं को यह जानकारी देना चाहूंगा कि जींद की जनता ने पिछले अनुभवों से काफी कुछ सीख लिया है।
जींद की जनता सही और गलत में भेद करना अच्छी तरह से जान गयी है। यही नहीं गिरगिट की तरह रंग बदलने वाले इन नेताओं की असलियत भी अच्छी तरह से पहचान गयी है। जिस भाजपा ने अपने साढ़े चार वर्ष के कार्यकाल के दौरान जींद और जींदवासियेां के लिए कुछ भी नहीं किया वह अब शेष दस माह में उन्हें मौज करवाने का दावा कर रही है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल तो कमाल की बात करते हैं। वे कहते हैं कि तुम जींद के इस उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी को विजयी बना दो मै तुम्हारी मौज करवा दूंगा। साथ ही वे छिपे शब्दों में धमकी भी देते हुए यह भी कहते हैं कि इस उपचुनाव में हार जीत का हमारी सरकार पर कोई असर पडऩे वाला नहीं है।
दुष्यंत ने कहा कि मुख्यमंत्री महोदय मैं आप से विनम्रता पूर्वक यह कहना चाहूंगा कि किसी मुख्यमंत्री को यह शोभा नहीं देता है कि वह क्षेत्र के विकास के लिए क्षेत्रवासियों के समक्ष कोई धमकी भरी शर्त रखे। यह न तो नैतिक रुप से सही है और न ही लोकतंत्र की मर्यादा के अनुरुप।
रणदीप सुरजेवाला के नारे जींद बदलेंगे जिन्दगी बदलेंगे के बारे में बोलते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सूरजेवाला यह बताएं कि वे तो प्रदेश सरकार में अत्यंत महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके है, अपने इस कार्यकाल के दौरान उन्होंने जींद और जींदवासियों की जिन्दगी बदलने के लिए कितना कार्य किया है। प्रदेश भाजपा सरकार के पूर्व लगातार दस वर्षों तक उनकी पार्टी ही सत्तासीन थी।
कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान रणदीप सूरजेवाला प्रदेश सरकार के मंत्रिमंडल में भी शामिल रहे हैं। लोक निर्माण मंंत्रालय, जन स्वास्थ्य विभाग एवं बिजली सहित अनेक महत्वपूर्ण मंत्रालयों का प्रभार वे संभाल चुके हैं। लेकिन अपने इस कार्यकाल के दौरान उन्होंने एक बार भी जींद के विकास के लिए कुछ करना तो दूर इसके बारे में सोचने की जहमत भी नहीं उठाई।
सच तो यह है कि रणदीप सूरजे वाला ने जींद के विकास में सहयोगी की भूमिका निभाने की बजाए जींद के विकास में बाधाएं खड़ी करने का ही कार्य किया है। उन्होंने कहा कि रणदीप सूरजेवाला यह बताएं कि लेाक निर्माण विभाग का सर्कल कार्यालय जो पूर्व में जींद में स्थित था को वे उठा कर कैथल क्यों ले गए थे। उनके इस कार्य से आप स्वयं यह अन्दाजा लगा सकते हैं कि रणदीप सूरजेवाला जींदवासियों के दोस्त हैं अथवा दुश्मन।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *