Home Breaking खेतों की ढाणियों में भी अब गांव की तरह रहेगी हर समय बिजली, गांव के फीडर से जोड़ा जाएगा- पंवार

खेतों की ढाणियों में भी अब गांव की तरह रहेगी हर समय बिजली, गांव के फीडर से जोड़ा जाएगा- पंवार

0
0Shares
Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 12 Nov, 2018
हरियाणा के परिवहन, आवास एवं कारागार मंत्री कृष्णलाल पंवार ने कहा कि प्रदेश सरकार ने निर्णय लिया है कि राज्य के गांवों के जो डेरे व ढाणियां एक किलोमीटर के दायरे में आते हैं उन्हें सम्बंधित गांव के फीडर से जोड़ा जाएगा ताकि उन्हें गांव की बिजली मिल सके। इसके लिए सम्बंधित डेरे व ढाणियों को 150 मीटर तक की बिजली की तार नि:शुल्क दी जाएगी। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि किसानों को और अधिक सुविधा देने के लिए खेतों के ऐसे रास्ते जिनकी चौड़ाई 3, 4 व 5 करम तक है वे भी सरकारी खर्च पर पक्के करवाए जाएंगे। इस योजना के तहत एक विधानसभा में चालू वित्त वर्ष में 25 किलोमीटर तक के रास्ते पक्के करवाए जाएंगे।
यह जानकारी आज उन्होंने पानीपत के गांव उरलाना कलां में करीब 63 लाख 50 हजार रूपये के विभिन्न विकास कार्यो का उद्घाटन व शिलान्यास करने के बाद समारोह को सम्बोधित करते हुए दी। उन्होंने बताया कि 150 मीटर से अधिक की दूरी पर 75 रूपये प्रति मीटर के हिसाब से उपभोक्ता से शुल्क लेकर उसके क्नैक्शन को गांव की बिजली से जोड़ दिया जाएगा ताकि उन्हें भी 18 से 24 घण्टे बिजली उपलब्ध हो सके।
उन्होंने कहा कि सरकार ने जहां स्वामी नाथन की रिपोर्ट लागू करते हुए कृषि उपज के एमएसपी को काफी बढाया है और ग्रामीण क्षेत्र में स्थापित सीएचसी केन्द्रों के माध्यम से किसानों को 50 से 80 प्रतिशत तक अनुदान पर कृषि यंत्र उपलब्ध करवाए हैं। प्रदेश में तेजी से विकास कार्य करवाने के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेश की सभी 90 विधानसभाओं का दौरा करके 6 हजार से अधिक घोषणाएं की हैं और इन घोषणाओं पर 80 प्रतिशत से अधिक के विकास कार्य करवाए जा चुके हैं। शेष कार्य भी शीघ्र ही पूरे करवा दिए जाएंगे।
मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने अपने गत चार साल के शासन के दौरान ग्रामीण क्षेत्र के विकास को मुख्य प्राथमिकता दी है। सरकार को जहां बेटी बचाओ-बेटी पढाओ अभियान को सफल बनाने में सफलता मिली है तो वहीं, हरियाणा ने भारत में ग्रामीण स्वच्छता के मामले में प्रथम स्थान प्राप्त किया है और ग्रामीणों की आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के लिए स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट लागू की है और ग्रामीण क्षेत्र की शिक्षा व्यवस्था को भी मजबूत बनाया है। इसलिए ग्रामीणों को हरियाणा सरकार की कल्याणकारी नीतियों का पूर्ण लाभ उठाना चाहिए।
उन्होंने कहा कि आज उरलाना कलां में दस लाख रूपये की लागत से बनाए गए डा0 अम्बेडकऱ भवन का उद्घाटन, 14 लाख की लागत से बनाए गए परशुराम भवन का उद्घाटन, 11 लाख 50 हजार रूपये की लागत से बनाई गई प्रजापति चौपाल का उद्घाटन, 12 लाख की लागत से बनाए गए छोटूराम भवन का उद्घाटन, 7 लाख रूपये की लागत से बनाई गई कश्यप चौपाल का उद्घाटन, 9 लाख रूपये से बनाई गई सैन समाज की चौपाल का उद्घाटन और 16 लाख रूपये की लागत से बनने वाली जोगी चौपाल का शिलान्यास किया गया है ताकि ग्रामीण क्षेत्र का कोई भी नागरिक मूलभूत सुविधाओं से वंचित ना रहे। गांव में अब तक करीब 2 करोड़ से भी ज्यादा की धनराशि विकास कार्यो के लिए दी जा चुकी है।
उन्होंने कहा कि कृषि विकास के लिए बिजली और सिचाई का उचित प्रबंध होना भी महत्वपूर्ण होता है। इसलिए सरकार ने जहां उरलाना कलां में 132 के0वी0 का बड़ा बिजली घर बनवाया है वहीं इस बिजली घर में 16 एम0वी0ए0 का बड़ा ट्रांसफार्मर भी लगवा दिया है और किसानों की मांग को स्वीकार करते हुए इतनी ही पावर का एक और ट्रांसफार्मर लगवा दिया जाएगा।
परिवहन मंत्री ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पानीपत की पवित्र भूमि से बेटी बचाओ-बेटी पढाओ अभियान का शुभारम्भ किया था। हरियाणा प्रदेश को इस अभियान को सफल बनाने में विशेष सफलता हासिल हुई है। पांच वर्ष पहले जो हरियाणा लिंगानुपात के मामले में उत्तर भारत में सबसे पीछे था आज  वही हरियाणा प्रदेश का गांव उरलाना कलां इस मामले में बहुत आगे निकल गया है। यहां एक हजार लडक़ों के पीछे एक हजार नौ लड़कियां हो गई हैं। प्रदेश में जहां लड़कियों की स्नातक तक की सभी प्रकार की शिक्षा नि:शुल्क दी जा रही है वहीं सरकार ने परिवहन विभाग के माध्यम से नि:शुल्क पास की सीमा को 60 कि0 मी0 से बढाकर 150 कि0 मी0 तक कर दिया है ताकि सभी छात्राएं 150 कि0 मी0 तक फ्री परिवहन सुविधा प्राप्त कर सकें।
Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

हरियाणा में कोरोना का लगातार बढ़ रहा ग्राफ, आज सामने आए 355 नये पॉजिटिव केस, देखिये मेडिकल बुलेटिन

Yuva Haryana, Chandigarh ये भी पढ़िय…