हरियाणा में किसानों को थोड़ी राहत, अब मिलेगी 10 घंटे बिजली

Breaking खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 19 Nov, 2019

हरियाणा के बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने विभाग के आला अधिकारियों के साथ अपनी पहली ही बैठक में खेतों को दी जाने वाली बिजली को आठ घंटे से बढ़ाकर 10 घंटे करने और गांवों व शहरों में टेढ़े खंभों व ढीली तारों को दस दिन में ठीक करने जैसे जन साधारण से जुड़े मुददों को छूकर अपनी और राज्य सरकार की प्राथमिकताएं जाहिर कर दी हैं। इसके अलावा, उन्होंने विभाग के अधिकारियों को जिला सिरसा के जीवन नगर में बॉयोमास परियोजना लगाने की सम्भावनाओं का पता लगाने के भी निर्देश दिए हैं।

रणजीत सिंह आज यहां हरियाणा निवास में बिजली विभाग से जुड़े विभिन्न निगमों तथा नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विभाग की परिचयात्मक-सह-समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक के दौरान पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से दोनों विभागों की उपलब्धियों तथा विभिन्न गतिविधियों का ब्यौरा पेश किया गया।

इस दौरान मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि बिजली से सम्बन्धित शिकायत केन्द्रों पर जन साधारण की शिकायतें गौर से सुनी जाएं और इसमें कोताही बरतने वाले अधिकारी या कर्मचारी के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए। उन्होंने कहा कि कृषि के लिए बिजली की सप्लाई 8 घंटे से बढ़ाकर 10 घंटे प्रतिदिन करने के आदेश दे दिए गए हैं। उन्होंने पर्यावरण प्रदूषण के प्रति गहरी चिंता व्यक्त करते हुए अधिकारियों को पराली का तुरन्त कोई स्थायी समाधान निकालने के निर्देश दिए।

बैठक में बताया गया कि पराली के निपटान के लिए प्रदेश में कम्प्रेस्ड बॉयोगैस (सीजीबी) प्लांट की स्थापना के लिए आईओसीएल के साथ एक समझौता किया गया है। एक हजार टीडीपी सीजीबी उत्पादन की 200 परियोजनाओं में लगभग 24 लाख मीट्रिक टन पराली की खपत होगी। आईओसीएल द्वारा 25 किलोमीटर की दूरी के अन्दर 10 वर्ष के लिए यह सीजीबी खरीदी जाएगी। हरियाणा में 234 टन प्रतिदिन क्षमता के सीबीजी प्लांट स्थापित करने के लिए 24 फर्मों ने 38 परियोजना प्रस्ताव दिए हैं। इसके अलावा, थर्मल प्लांटों में भी पराली का उपयोग किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में हर साल लगभग 50 से 55 लाख टन पराली होती है। इसके निपटान के लिए प्रदेश में कई महत्वाकांक्षी परियोजनाएं शुरू की जा रही हैं, जिनमें लगभग 40 लाख टन पराली की खपत हो जाएगी।

रणजीत सिंह ने कहा कि प्रदेश में नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा को बड़े पैमाने पर बढ़ावा दिया जा रहा है। मनोहर ज्योति योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा घरों में सोलर होम सिस्टम लगवाने के लिए 15 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जा रही है। इस सिस्टम से  छ:-छ: वाट की तीन लाइटें, 9 वाट की एक लाइट, एक मोबाइल चार्जर और एक सीलिंग फैन चलाया जा सकता है। इसके अलावा, अगले दो वर्ष के अंदर सभी सरकारी भवनों पर सोलर रूफ-टॉप लगाए जाएंगे।

बैठक के पश्चात रणजीत सिंह ने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मुझ पर भरोसा करके महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी है। ऐसे में मेरा भी फर्ज बनता है कि मैं काम करके दिखाऊँ। उन्होंने कहा कि किसी भी अधिकारी या कर्मचारी को बेवजह परेशान नहीं किया जाएगा और अगर किसी को कोई परेशानी हो तो वह किसी भी समय आ कर मुझे सीधा मिल सकता है। लेकिन काम के मामले में कोई भी कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अच्छा काम करने वालों को प्रोत्साहन भी दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज विभाग की पहली बैठक थी और प्रस्तुतिकरण देखकर अच्छा लगा कि यहां सभी लोग पेशेवर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *