किसान ने फांसी का फंदा लगाकर कर ली खुदकुशी, कर्ज और फसल बर्बाद होने से था परेशान

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष
Pardeep Dhankar, Yuva Haryana
Jhajjar, 26 Nov, 2018
किसानों को फसल का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य देने का दावा करने वाली हरियाणा सरकार को शर्मसार कर देने वाली घटना हुई है। कर्ज और जिम्मेदारियों के बोझ तले दबे एक किसान ने फसल बर्बाद होने पर आत्महत्या कर ली है। मामला हरियाणा के कृषि और किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ की विधानसभा बादली के गांव खूडन का है।
खूडन गांव के प्रकाश ने 10 दिन पहले खेत में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। प्रकाश ने आठ एकड़ में धान की फसल लगाई थी जो बरसाती पानी के कारण पूरी तरह बर्बाद हो चुकी है। खेत में पानी ही पानी भरा हुआ है जिसके कारण वो गेहूं की बिजाई भी नही कर पाया। उपर से बैंक उसे लोन चुकता करने के लिये नोटिस पर नोटिस दिये जा रहा था। जब कोई रास्ता नजर नही आया तो उसने इस संसार को ही अलविदा कह दिया।
प्रकाश के पास खुद की दो एकड़ ही जमीन है। उसने 6 एकड़ जमीन करीब 20 हजार रूप्ये प्रति एकड़ के हिसाब से बटाई पर ली थी। कृषि कार्ड, ट्रॉली का लोन और सोसायटी का  लोन मिलाकर उस पर करीब साढ़े चार लाख का कर्ज था। घर में एक जवान बेटा और जवान बेटी भी है। बेटी की शादी की चिंता भी उसे खाये जा रही थी। कर्ज चुकता होने का कोई रास्ता उसे सूझ नही रहा था। परिजनों का कहना है कि वो घर पर भी फसल बर्बादी को लेकर मायूसी भरी बातें किया करता था लेकिन उन्हे अंदाजा भी नही था कि वो इतना बड़ा कदम उठा लेंगे।
खूडन गांव कृशि और किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ के गांव ढाकला से महज पांच किलोमीटर की दूरी पर है। विधानसभा चुनाव में गांव से मंत्री जी को कांग्रेस से दोगुनी वोट भी मिली थी। लेकिन गांव के खेतों में भरे पानी की निकासी कराने में मंत्री महोदय पूरी तरह से फेल हो गये। किसानों की मांग है कि अब पीडि़त परिवार का कोई सहारा नही बचा ऐसे में सरकार किसान के परिवार को आर्थिक सहायता और एक बच्चे को सरकारी नौकरी देकर राहत प्रदान करे।
किसान की आय  2021 तक दोगुनी करने के दावे करने वाली भाजपा सरकार के लिये दिल्ली से सटे हरियाणा के किसान की आत्महत्या एक करारा तमाचा है। खूडन के किसान को ना तो प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का सहारा मिला और ना ही डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य का।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *