किसानों की मेहनत चढ़ी बारिश की भेंट, प्रशासन की खुली पोल

खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Vinod Saini,  Yuva Haryana

Hisar, 11-04-2018

बारिश में फसल नष्ट होने से किसानो के चेहरे पूरी तरह से मुरझा गए हैं। खून पसीने की कमाई को यह सोचकर मंडी लाया गया था कि फसल के अच्छे दाम मिलेंगे और वे लोग मालामाल हो जाएंगे। लेकिन प्रशासन की लापरवाही तो देखिये, किसानो को तिरपाल तक उपलब्ध नहीं करवाए गए और पहली ही बारिश किसानो के चेहरे पर मायूसी छाेड़ गयी।

किसानो का कहना  है  कि मंडी में गेंहू की आवाक शुरू हुए कई दिन हो गए हैं। इसी बीच मौसम की एक बार पहले भी मार झेलनी पड़ी थी। लेकिन इस बार बारिश से उनकी सारी मेहनत मिट्टी में मिल गई है। बारिश में भीगने के बाद गेंहू की क्वालिटी में अच्छा  खासा फर्क पड़ गया है। सभी किसान प्रशासन की लापरवाही से बेहद नाराज है, क्योंकि मौसम की जानकारी होने के बावजूद भी प्रशासन ने उन्हें तिरपाल तक मुहैया नहीं करवाए और न ही किसी प्रकार की अन्य सुविधाएं मुहैया करवाई।

किसानों का यह भी कहना है कि सारा सिस्टम सरकार ने खराब किया है। जिसके चलते किसानो की फसल भीग रही है। प्रशासन की आखें मूंद कर बैठा है और किसान चिंता में है। किसानो की कोई सुनाने वाला नहीं है। किसानो की मेहनत पर पानी फिर गया है और सरकार भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रही है। किसान ने प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर जल्द कोई पुख्ता प्रबंध नहीं किये गए, तो किसानों को प्रदर्शन का रास्ता अपनाना पड़ेगा।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *