नीदरलैंड की तकनीकों से खेती करेंगे हरियाणा के किसान, कई समझौतों पर हुए हस्ताक्षर

Breaking खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 24 May, 2018

हरियाणा में फसलों की विविधीकरण प्रक्रिया को विस्तारित करने की दिशा में हरियाणा व नीदरलैंड मिलकर कार्य करेंगे। फसलों की विविधीकरण प्रक्रिया को विस्तार व गति देने में बागवानी क्षेत्र को उच्च मूल्य क्षमता श्रृंखला को जोडकर पेरी-अर्बन-फार्मिंग के विकास व इस क्षेत्र के वास्तविक व्यावसायिक विषयों में सहयोग किया जाएगा।

हरियाणा में कृषि क्षेत्र व सहायक कृषि क्षेत्र को विकसित करने व बढावा देने की दिशा में परस्पर सहयोग के लिए हरियाणा व नीदरलैंड के मध्य एक समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किया गया भारत के लिए नीदरलैंड व्यापार मिशन के अंतर्गत नई दिल्ली में आयोजित  किसानों की आय दोगुनी करना व इंडो-डच साझेदारी सेमिनार में नीदरलैंड के प्रधान मंत्री मार्क राट तथा हरियाणा के कृषि व किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड की उपस्थिति में समझौता ज्ञापन के दस्तावेजों का आदान-प्रदान किया गया। हरियाणा के मुख्य सचिव डी एस ढेसी व भारत में नीदरलैंड के राजदूत अलफांसो स्टोएलिंगा ने हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन के दस्तावेजों का परस्पर आदान-प्रदान किया।

कृषि, पशुपालन एवं डेयरिंग, मत्स्य पालन, बागवानी व फूलों की खेती के उन्नयन के लिए हरियाणा व नीदरलैंड अब मिलकर कार्य करेंगे। प्रमुखतया फसलों का विविधीकरण, सिचाई जल प्रबंधन, पेरि-अर्बन-कृषि के विकास के संदर्भ में हरियाणा व नीदरलैंड अब मिलकर कार्य करेंगे।

कृषि क्षेत्र में सक्षम जल प्रबंधन, खारे पानी का उपयोग, उप-सतह जल निकासी तथा  जल निकायों की पुनस्र्थापना में पारस्परिक सहयोग किया जाएगा। फसलों के अवशेषों को जलाने की प्रक्रिया को कम करने की दिशा में अवशेषों के वैकल्पिक उपयोग को प्रोत्साहित किया जाएगा।

उत्कृष्ट केन्द्रों व प्रशिक्षण केंद्रों की स्थापना में तकनीकी परामर्श भी दिए जाएंगे। हरियाणा में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में फूलों की मंडी स्थापित किए जाने में नीदरलैंड हरियाणा का सहयोग करेगा। बागवानी क्षेत्र के विकास की दिशा में हरियाणा में स्थापित किए जाने वाले पैक-हाउसों व शीत प्रणाली से जोडने की प्रक्रियाओं में नीदरलैंड हरियाणा का सहयोग करेगा।
महाराणा प्रताप बागवानी विश्वविद्यालय के साथ वागनीनजेन यूनिवर्सिटी,नीदरलैंड व चौधरी चरणसिंह  हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय,हिसार के पारस्परिक सहयोग को मजबूत किया जाएगा। इसके अतिरिक्त उन्नत कृषि अनुभवों, पोस्ट हार्वेस्ट मैनेजमेंट, एग्रो-लॉजिस्टिक प्रणाली व नालेज सेंटरों के विकास में सहयोग भी शामिल रहेगा।

समझौता ज्ञापन के दस्तावेजों की आदान-प्रदान प्रकिया के दौरान हरियाणा के सहकारिता विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव नवराज संधु व हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड के मुख्य प्रशासक मनदीप बराड भी उपस्थित थे।

Read This News Also>>>>

स्पा की आड़ में चल रहा था देह व्यापार का गोरखधंधा, पुलिस ने 19 युवतियों समेत 28 लोगों को किया गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *