वित्तमंत्री को मिले मुआवजे से होगी गरीब बेटियों की शादी, आगजनी और तोड़फोड़ के बाद मिला था मुआवजा

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 13 Oct, 2018

वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु के घर आगजनी और तोड़फोड़ के मुआवजे और उसके बयाज से अब गरीब बेटियों की शादी करवाई जाएगी। 15 दिसंबर को गरीब बेटियों की शादी का कार्यक्रम होगा। यह जानकारी वित्तमंत्री के छोटे भाई मेजर सत्यपाल सिंधु ने दी।

फरवरी 2016 में रोहतक में हुए दंगों के दौरान राजनीतिक षड्यंत्र के तहत ‘सिंधु भवन’ में की गई आगजनी और तोडफोड के मुआवजे के तौर पर मिली राशि और इस पर मिले ब्याज से 15 दिसंबर को गरीब कन्याओं की शादी की जायेगी।

यह जानकारी देते हुए परिवार के सदस्य मेजर सत्यपाल सिंधु ने बताया की उनका परिवार विगत 100 वर्षों से सामाजिक कार्यों में भाग ले रहा है और जब परिवार के निवास को जलाया गया तभी यह निर्णय लिया गया था की सरकार से इस एवज में जो मुआवजा राशि मिलेगी उसे परिवार अपने पास ना रखकर समाज की भलाई में खर्च करेगा. 15 दिसंबर को उनके पूज्य पिता जी स्वर्गीय मित्रसेन आर्य जी की जयंती है और इस दिन इस राशि से सर्वजातिय गरीब कन्याओं का विवाह करने की योजना परिवार ने बनाई है. यह हरियाणा के इतिहास का सबसे बडा सामूहिक विवाह कार्यक्रम होगा जिसमें साधू संतों के अलावा गणमान्य नागरिक भी नवविवाहितों को आशीर्वाद देने के लिए उपस्थित रहेंगे. सत्यपाल सिंधु हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु के छोटे भाई हैं।

मेजर सत्यपाल सिंधु ने बताया की ईश्वर की कृपा और समाज के आशीर्वाद से उनके परिवार ने हमेशा सामाजिक भलाई के कामों में आगे बढ़कर योगदान दिया है. उनके पूर्वजों में परदादा स्वर्गीय श्री राजमल जेलदार और दादा स्वर्गीय शीश राम आर्य ने समाज कल्याण की जो परम्परा शुरू की थी उसे उनके पिता श्री मित्रसेन आर्य ने आगे बढाया. वे हिंदी आन्दोलन और गौ रक्षा आन्दोलन के दौरान जेल भी गये. परिवार ने 1913 से लगातार रोहतक स्थित जाट शिक्षण संस्थाओं, आर्य समाज से जुडी संस्थाओं, गुरुकुलों, योग एवं आयुर्वेद से जुडी संस्थाओं के साथ साथ समाज के हर वर्ग के लिए अपना योगदान दिया है. उनके पिताजी ने संयुक्त परिवार परम्परा और भाईचारे का जो रास्ता दिखाया पूरा परिवार उस रास्ते पर चल रहा है।

उन्होंने कहा की उनके दादा ने आर्य समाज के उपदेशक के तौर पर अपना पूरा जीवन समाज की सेवा में लगाया. उन्होंने लाहौर तक आर्य समाज का प्रचार किया और महान देशभक्त लाला लाजपत राय और भगत फूल सिंह के साथ कार्य किया।

उन्होंने बताया की फरवरी 2016 में एक षड्यंत्र के तहत उनके परिवार पर जानलेवा हमला किया गया और निवास के साथ साथ उसमें रखे सारे सामान, यज्ञशाला और पुस्तकालय को भी जला दिया गया था. यह मामला फिलहाल सीबीआई की अदालत में है. इस घटना के बाद सरकार ने परिवार को करीब तीन करोड़ रु मुआवजा राशि जारी की थी।

मेजर सिंधु ने बताया कि परिवार की मुखिया माता जी परमेश्वरी देवी और उनके बड़े भाई कैप्टन रुद्रसेन सिंधु ने परिवार के सभी सदस्यों से सलाह करके उसी समय ही यह तय कर लिया था की जो भी मुआवजा मिलेगा उसे परिवार अपने पास न रखकर बल्कि समाज के कार्यों में लगाएगा. अब परिवार ने यह तय किया है की 15 दिसंबर को इस राशि और इसपर जितना ब्याज अब तक बना है उससे ग़रीब कन्याओं का विवाह किया जाएगा।

उन्होंने बताया की इस विवाह कार्यक्रम के लिए स्थान और इसकी पूरी रुपरेखा तैयार कर इसकी जानकारी दे दी जाएगी. गौरतलब है की परिवार के सदस्य और हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने गत वर्ष अपने जन्मदिन पर 55 गरीब कन्याओं की शादी की थी और इसके लिए उन्होंने विधायक के तौर पर मिलने वाला अपना पूरा वेतन खर्च किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *