कोर्ट के आदेश के 6 दिन बाद मंत्री ग्रोवर व लोहार के खिलाफ FIR दर्ज, देखें कॉपी

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Deepak Khokhar, Yuva Haryana

Rohtak, 30 July, 2019

एडीजे कोर्ट के आदेश के 6 दिन बाद आखिरकार सहकारिता राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर व बीजेपी नेता रमेश लोहार के खिलाफ विभिन्न धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। एक दिन पहले ही एफआईआर दर्ज न होने पर निचली कोर्ट ने एसएचओ को नोटिस जारी कर 31 जुलाई को जवाब देने को कहा था। अब शिवाजी कालोनी पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 420, 483,188,171सी, 171 एफ, 166ए, 511, 506,34, 120 बी, 25 आर्म्स एक्ट व 135 आरपी एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई है।

दरअसल, एडीजे रितू वाईके बहल की कोर्ट ने 24 जुलाई को पुलिस की पुनर्विचार याचिका रद्द करते हुए एसएचओ को एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए थे। इससे पहले इससे पहले जेएमआईसी विवेक सिंह की कोर्ट ने 3 जून को एफआईआर के आदेश दिए थे। जिसके खिलाफ 6 जून को पुलिस की ओर से पुनर्विचार याचिका दायर की गई थी।

गौरतलब है कि 12 मई 2019 को मतदान के दिन रोहतक के भारती कन्या स्कूल के एक बूथ में मंत्री मनीष ग्रोवर व कांग्रेस के पूर्व विधायक भारत भूषण बतरा के बीच कहासुनी हुई थी। इस दौरान भाजपा नेता रमेश लोहार भी वहां मौजूद था। कांग्रेस ने मंत्री ग्रोवर पर बगैर इजाजत बूथ में घुसने और धमकी देने के आरोप लगाए थे।

बाद में खुद कांग्रेस प्रत्याशी दीपेंद्र हुड्डा ने इस मामले की शिकायत जिला निर्वाचन अधिकारी से की थी। बाद में जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं कांग्रेस नेता लोकेंद्र फौगाट ने एसपी को शिकायत देकर एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी। पुलिस ने जब इस मामले में एफआईआर दर्ज नहीं की, तो बार प्रधान ने कार्रवाई न करने का आरोप लगा कोर्ट में शिकायत दायर की थी।

जेएमआईसी विवेक ने 3 जून को लोकेंद्र फौगाट की शिकायत पर मंत्री ग्रोवर व लोहार के खिलाफ विभिन्न आपराधिक धाराओं के तहत केस दर्ज करने के आदेश दिए थे। शिकायतकर्ता के वकील जितेंद्र हुड्डा ने बताया कि कोर्ट के आदेश के बाद अब मंत्री  ग्रोवर व बीजेपी नेता लोहार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *