बहादुरगढ़ में सुपर मार्केट में घुसकर शख्स पर बरसाई गोलियां, धमकी भरा पत्र भी मिला

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankar, Yuva Haryana
Bahadurgarh, 28 July, 2018

बहादुरगढ़ में दो नकाबपोश बदमाशों ने एक सुपर मार्केट स्टोर के सामने जमकर गोलियां बरसाई। दुकान पर की गई फायरिंग में दुकान में सामान खरीदने आया एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। गोली लगने की यह वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। मामला देर रात का है।

रात के समय करीब 9 बज कर 40 मिनट पर बहादुरगढ़ के प्रेम नगर स्थित श्री कान्हा सुपर मार्केट में मोटरसाइकिल पर सवार होकर दो बदमाश पहुंचे। जिनमें से एक ने अपने मुंह पर कपड़ा लपेट रखा था। उसने पहले तो सुपर मार्केट स्टोर के मालिक को धमकी भरा पत्र थमाया और इसके बाद बाहर निकलकर स्टोर पर गोलियां बरसानी शुरू कर दी। इस घटना में एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल की पहचान बहादुरगढ़ के सेक्टर 2 निवासी प्रदीप के रूप में हुई है। प्रदीप घटना के समय दुकान के अंदर सामान खरीद रहा था।

सीसीटीवी में साफ देखा जा सकता है कि जब गोली लगी तो प्रदीप दुकान के अंदर मौजूद था और गोली लगने के बाद वह लड़की लड़का आकर गिर गया। घायल को बहादुरगढ़ के ब्रह्म शक्ति संजीवनी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच में जुट गई। सुपर मार्केट स्टोर के मालिक  को जो पर्ची बदमाशों ने  पकड़ाई थी उस पर्ची में  मालिक से 20 लाख रुपए  की फिरौती मांगी गई है। जिसमें  नीतू दाबोदा  और पारस गैंग का हवाला देकर  तिहाड़ जेल में बंद गौरव उर्फ मोंटी तक  पैसे पहुंचाने  की बात लिखी गई है।

इतना ही नहीं पत्र में  पैसे नहीं पहुंचाने पर  जान से मारने की धमकी  भी दी गई है। इस पत्र में गोली चलाने की वारदात को महज ट्रेलर बताया गया है और पैसे नहीं मिलने पर खामियाजा भुगतने की भी बात लिखी गई है। हम आपको बता दें कि  नीटू दाबोदा  बहादुरगढ़  का कुख्यात  बदमाश था। जिसे कई साल पहले  दिल्ली पुलिस  के एनकाउंटर में  मार गिराया गया था।

लेकिन  अब उसी गैंग के  सदस्य  बहादुरगढ़ में  दहशत फैला कर  फिरौती मांगने के लिए लगातार वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। 2 दिन पहले भी बहादुरगढ़ के नेशनल हाईवे पर स्थित है रेड होटल होटल  के मैनेजर को  फिरौती मांगने के लिए ही गोली मार दी गई थी। यह घटना भी सीसीटीवी में कैद हुई थी। दोनों ही मामलों में हमलावर अब तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

वही पुलिस का कोई भी अधिकारी इस मामले में बोलने को तैयार नहीं है। लगातार वारदातों को  अंजाम दे रहे बदमाश  बेखौफ घूम रहे हैं। अगर समय रहते  इन बदमाशों को काबू नहीं किया गया  तो  इससे भी  ज्यादा खौफनाक वारदातें  सामने आ सकती हैं। तिहाड़ जेल में बंद कैदी तक पैसे पहुंचाने का यह मामला अपने आप में बेहद संगीन है। जो गैंगस्टरों  द्वारा जेल में बैठकर गैंग चलाने की तरफ इशारा करने के साथ साथ पुलिस की कार्रवाई पर भी सवाल खड़े करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *