दिव्यांग ने साबित किया, उड़ान पंखों से नहीं हौसलों से होती है

Breaking खेल चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Sonipat, 08 July 2019

                      ‘ पंछी अपने बच्चों के लिए कभी घोंसले बनाकर नहीं देते,
                         वो तो बस उन्हें उड़ने की कला सिखाते है’…

हरियाणा के सोनीपत के रहने वाले दिव्यांग रमेश ने ये साबित कर दिखाया है कि अगर इंसान के अंदर हौंसला है। उसने कुछ करने का निश्चय कर लिया है तो उसे मंजिल तक पहुंचने से कोई नहीं रोक सकता। रमेश शारीरिक तौर पर कमजोर जरूर है लेकिन मानसिक रूप से वह काफी मजबूत है।

रमेश के दोनों हाथों व पैरों की उंगलियां नहीं है। फिर भी वह आज भारतीय दिव्यांग क्रिकेट टीम का हिस्सा हैं। उन्होंने नियमित अभ्यास करके खुद को इतना सक्षम बना लिया है कि उन्हें अपने दिव्यांग होने का भी अहसास नहीं होता है। वह 12 अगस्त से इंग्लैंड में होने जा रहे दिव्यांग क्रिकेट विश्व कप में भारतीय टीम का अहम हिस्सा बने हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *