हरियाणा में पहली बार किन्नरों और एसिड अटैक पीड़ितों को मिलेगा आरक्षण

चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Haryana, 10-04-2108

किन्नरों को हमारे समाज ने तिरस्कार की नजरों से देखा जाता है। शादी- ब्याह में, बच्चे के पैदा होने पर घरों में नाच गा कर बधाई देना ही किन्नरों का काम माना जाता है। लेकिन किन्नर जागरूक होकर धीरे-धीरे इस सामाजिक धारणा को तोड़ रहे हैं और उच्च शिक्षा हासिल करके बड़े पदों पर आसीन हो गए हैं।

एक लंबी लड़ाई के बाद अब किन्नरों को एक अलग पहचान मिलने वाली है। जी हां, हरियाणा में पहली बार किन्नरों को नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण मिलने जा रहा है।

हरियाणा पिछड़ा वर्ग आयोग के चेयरमैन जस्टिस एसएन अग्रवाल ने बताया कि हरियाणा पिछड़ा वर्ग आयोग ने किन्नरो के सामजिक पिछड़ेपन को दूर करने के लिए आरक्षण देने का फैसला किया है। इसके लिए जल्द ही जरुरी आंकड़े जुटाए जाएंगे। किन्नरों के साथ-साथ एसिड अटैक पीड़ितों को भी आरक्षण का लाभ दिए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

2016 में सुप्रीम कोर्ट ने भी सभी राज्यों को किन्नरों को मुख्यधारा में लाने का फरमान सुनाया था। शहरी क्षेत्र में 2011 के सामाजिक आर्थिक जनगणना के अनुसार राज्य में 66 किन्नर फरीदाबाद, 47 किन्नर गुरुग्राम शहर में थे, लेकिन इनकी स्थिती काफी खराब थी।

ग्रामीण ईलाकों में किन्नरों की संख्या और भी कम है। क्योंकि किन्नर आमतौर पर शहरों की ओर ही पलायन कर जाते हैं। बता दें कि छत्तीसगढ और तमिलनाडु सरकार पहले ही इस आधार पर किन्नरों आरक्षण का लाभ दे चुकी है और अब हरियाणा में भी किन्नरों को आरक्षण का लाभ मिलने जा रहा है।

 

ये भी पढ़ें >>

HSSC की भर्तियों पर नहीं कोई रोक, चेयरमैन भारती ने किया खबरों का खंडन

1 thought on “हरियाणा में पहली बार किन्नरों और एसिड अटैक पीड़ितों को मिलेगा आरक्षण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *