हरियाणा की 3 पहचान- किसान, खिलाड़ी और जवान, सरकार कर रही इन तीनों का अपमान- भूपेंद्र हुड्डा

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Panchkula, 2 May, 2018

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भाजपा सरकार पर तंज कसते कहा है कि वो कानूनी लड़ाई कोर्ट में और राजनीतिक लड़ाई सड़कों पर लड़ेंगे।

उन्होंने कहा कि हमारे प्रदेश की तीन शान है, जिसके कारण उसकी पहचान है – किसान, खिलाड़ी और जवान। लेकिन भाजपा सरकार इन तीनों का ही अपमान कर रही है और इसका सबूत यहां से मिलता है कि हाल ही में कॉमनवेल्थ में पदक जीतकर आए खिलाड़ियों का सम्मान समारोह रद्द किया गया।

हुड्डा ने कहा कि केंद्र सरकार में नौकरी करने वाले हरियाणा मूल के खिलाड़ियों को भी पूरी ईनाम राशि दी जाए। सरकार को जल्द से जल्द खिलाड़ियों को ईनाम राशि देनी चाहिए और बकाया ईनाम का भी तुरंत भुगतान करना चाहिए।

पूर्व सीएम ने कहा कि सरकार बताए कि खनन माफिया पर नकेल कसने के बजाय अवैध खनन रोकने वालों पर कार्रवाई क्यों हो रही है ? कहां कि RTI से मिली जानकारी के मुताबिक हरियाणा सरकार ने विज्ञापनों पर पौने 4 अरब रुपये खर्च कर डाले, जबकि धरातल पर कोई काम नहीं हुआ है।

हुड्डा ने कहा कि एक तरफ तो सरकार किसानों की आमदनी दोगुनी करने की बात करने का दावा करती है। वहीं ज्यादातर किसानों को MSP से 500 से 700 रुपये तक कम कीमत पर बेचनी पड़ी है।

हरियाणा में मीटर घोटाला, धान घोटाला, खनन घोटाला और अब गरीब आदमी की ‘आटा दाल स्कीम’ का दाल घोटाला और आम आदमी को सरकारी अस्पताल में दी जाने वाली दवाईयों की खरीद में भी घोटाले हो रहे हैं, लेकिन इन सबके बाद भी सरकार जांच करने से बच रही है।

हाल ही में हुए HSSC घोटाले पर बोलते हुए हुड्डा ने कहा कि HSSC तो नौकरी बेचने का अड्डा बन गया है। उन्होंने सराकार से  मांग की है कि इस घोटाले को लेकर हाईकोर्ट में कार्यरत न्यायाधीश से जांच करवाई जाए, ताकि सारा सच सबके सामने आ सके।