छात्रा से गैंगरेप के बाद घर में ही थे आरोपी, दूसरे दिन शहीद के अंतिम संस्कार पर भी गए

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Kosli, 27 Sept, 2018

पुलिस की गिरफ्त में आए छात्रा से गैंगरेप के आरोपी पंकज और मनीष ने राज उगल दिये हैं। जानकारी के मुताबिक 12 सितंबर को छात्रा से गैंगरेप के बाद आरोपी घर पर ही थे. उसके अगले दिन आरोपी पास के शहीद के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे. वहीं बाद में जब मामला तूल पकड़ गया तो आरोपी वहां से मोटरसाइकिल पर भाग निकले।

वारदात 12 सितंबर को दिन में अंजाम दी गई थी जिसके बाद सभी आरोपी उस रात घर में ही थे, लेकिन उस रात को मामला इतना तूल नहीं पकड़ा जिसके बाद वो अगले दिन गांव में ही शहीद के अंतिम संस्कार में भी गए थे। जब मामला पूरी तरह से तूल पकड़ा तो आरोपी अगले ही दिन महेंद्रगढ़ में अपने जीजा के पास मोटरसाइकिल पर चले गए थे।

इसके बाद जब मामला मुख्यमंत्री तक पहुंचा तो आरोपी पंकज और मनीष ने महेंद्रगढ़ में रुकना उचित नहीं समझा और वो वहां से मोटरसाइकिल पर ही पंकज अपने जीजा अभिषेक की मौसी के घर नूहनियां तहसील बुहाना जिला झूंझुनू पहुंच गए थे। यहां पर दोनों आरोपियों ने अपने मोबाइल रेत में दबा दिये थे।

इसके बाद वो 16 सितंबर को वापस सतनाली के रेलवे स्टेशन पर आए थे लेकिन वो यहां ज्यादा समय नहीं रुके और राजस्थान के गोगामेड़ी मेले में चले गए। इस दौरान दोनों की आर्थिक हालत खराब हो चुकी थी. और दोनों मेले में भिखारियों की तरह मेले कुचेले कपड़ों में घूमते रहे. और धर्मशालाओं के पास से खाना खाया।

इसके बाद 17 सितंबर को वो राजस्थान के गोगामेड़ी मेले से बीकानेर चले गए लेकिन वहां से फिर वापस ट्रेन में ही रेवाड़ी आ गए। लेकिन यहां पर आकर देखा तो माहौल ज्यादा गरम था और वो गाड़ी में बैठकर दोबारा से राजस्थान में चले गए। इस दौरान दोनों ने अपना अधिकतर समय राजस्थान के झूंझुनू में ही बिताया।

हालांकि पुलिस को इसी बीच राजस्थान में आरोपियों के लोकेशन होने की सूचना मिली थी जिसके बाद पुलिस की टीम ने राजस्थान में छापेमारी की थी लेकिन आरोपी तब तक निकल चुके थे।

इस मामले में पुलिस ने सतनाली इलाके में आने के बाद दोनों आरोपियों को एक ढाबे से गिरफ्तार कर लिया था. दोनों आरोपी 12वें दिन पुलिस के हाथ लगे थे. इतने दिन तक आरोपी हरियाणा, राजस्थान और कई खेतों में घूमते रहे थे।

छात्रा से गैंगरेप मामले में पुलिस ने अब तक आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जिसमें मुख्य आरोपी निशु, कोठड़े का मालिक दीन दयाल, आरएमपी डॉक्टर संजीव, पंकज फौजी, मनीष, नवीन फौजी, मंजीत और अभिषेक को गिरफ्तार किया है। जिसमें से मंजीत और अभिषेक को तुरंत जमानत मिल गई थी।

अभिषेक महेंद्रगढ़ का रहने वाला है और पंकज फौजी का बहनोई है। जबकि मंजीत अभिषेक के रिश्तेदारी में है। इन दोनों पर आरोपियों को शरण देने और जानकारी ना देने के आरोप हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *