प्रदेश में हर जगह फैलेगा कूड़ा, 30 हजार कर्मचारी गए हड़ताल पर

Breaking बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा

प्रदेश के सभी नगर निगमों, पालिकाओं और परिषदों में काम करने वाले लगभग 30 हजार कर्मचारी 3 दिन की हड़ताल पर रहेंगे। लेकिन कर्मचारी लोगों को ध्यान में रखते हुए जल आपूर्ति और अग्निशमन सेवाएं बाधित नहीं करेंगे, जबकि महकमे की मंत्री कविता जैन का कहना है कि उनके पास इसका कोई नोटिस नहीं आया है। यहां तक कि डिजास्टर को लेकर इसी सप्ताह तो छुटि्टयां तक रद्द की हुई है।

बता दें कि कर्मचारियों की ओर से यह हड़ताल घोषणा पत्र में पालिका कर्मियों से किए गए ठेका प्रथा समाप्त करने, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, 15 हजार न्यूनतम वेतनमान देने आदि वादों पर अमल न करने को लेकर की जा रही है।

प्रदेश में 10 नगर निगम, 16 नगर परिषद व 61 नगरपालिकाएं हैं, जिनके कर्मचारी 9 मई से शुरू हो रही 72 घंटे की हड़ताल में शामिल होंगे। चेतावनी दी कि 10 मई की शाम 5 बजे तक सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया तो तीन दिवसीय हड़ताल अनिश्चितकालीन तक हो सकती है।

बता दें कि इस हड़ताल से प्रदेश में कचरा नहीं उठेगा। नगर निकायों के काम ठप हो जाएंगे। स्ट्रीट लाइट, कर वसूली, पानी के बिल, सीवरेज के काम, सभी प्रकार की पेंशन बनाने, वितरण के काम आदि प्रभावित हो जाएंगे।

प्रदेश अध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने कहा कि विधायक व मंत्री रात्रि प्रवासों के दौरान दलितों के घर भोजन करने का ड्रामा कर रहे हैं। दूसरी ओर दलित सफाई कर्मचारियों से बातचीत तक करने को तैयार नहीं हैं। इससे ऐसा लगता है कि सरकार को सफाई कर्मचारियों में से बदबू आती है।

Read This Story

तो क्या सच में मेट्रो बहादुरगढ़ नहीं आ रही है, इनेलो की युवा इकाई ने उठाए सवाल

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *