टोहाना के गौरव का बॉलीवुड में दिखेगा साउंड वर्क, मनोज वाजपेयी और नेहा धूपिया की फिल्म में मिला काम करने का मौका

Breaking कला-संस्कृति चर्चा में देश बड़ी ख़बरें युवा हरियाणा हरियाणा विशेष

Naval Singh, Yuva Haryana

Tohana, 21 August, 2018

किसी भी फिल्म या नाटक के निर्माण के वक्त एक आवाज गुंजती है, लाईट, साउड, कैमरा, एक्शन इनके योगदान ये ही सिनेमा तैयार होता है। इसी दूसरी आवाज सांउड में टोहाना के गौरव ने महत्वपूर्ण कार्य करते हुए वालीवुड में दस्तक दी है।

रंगीले वालीवुड की दुनियां सबके लिए रोमाचकारी होती है। हर युवा का  कलाकार बनने का सपना होता है। हर किसी की चाहत होती है कि उसका नाम भी कभी बडे सिनेमा के पर्दे पर बालीवुड के सितारों के साथ चमके।

ऐसा ही सपना टोहाना के गौरव गिल ने वर्षो पहले कक्षा नौ में पढ़ते हुए देखा था। उसका सपना था कि वो भी फिल्मों में अपना हुनर दिखाए। इस लक्ष्य को लेकर उसने हाई स्कूल की पढ़ाई के बाद रोहतक के सुपवा यूनिवसर्टी में सिनेमा की साऊंड में शिक्षा ग्रहण की महारत इतनी की कि उसे कॉलेज के समय से ही आर्ट फिल्मों व एड फिल्मों मे काम मिलना शुरू हो गया।

आज 24 वर्ष की छोटी आयु में उसके काम को नई ऊचाईयां मिली, जब उसे बालीवुड की फिल्मों में बड़े स्टारकास्ट मनोज वाजपेयी के साथ गली- गुलिया में काम करने का मौका मिला। वहीं दूसरी फिल्म प्रसिद्ध अभिनेत्री कॉलेज व नेहा धुपिया के साथ हैलीकाप्टर ईला में सांऊड वर्क किया।

युवा गौरव गिल आज बालीवुड में टोहाना का नाम गर्व से बताते है कि वो हरियाणा की नहरी नगरी के वासी है। उनके काम को पहचान मिल रही है। दोनो ही फिल्म 7 सितंबर को देश के सिनेमा घरों में रिलिज होने जा रही है।

जिनमें टोहाना के गौरव गिल का नाम बकायदा स्क्रीन पर दिखाई देगा। ये निसन्देह  हर कलाकार के लिए बड़ा पुरस्कार है। दोनों रिलिज होने जा रही फिल्मों के बारे में गौरव गिल ने बताया कि गली-गुलियां एक ऐसे व्यक्ति की कहानी है जो अपने भुतकाल में जी रहा है। जिस मनोज वाजपेयी ने अभिनय से जानदार बनाया है। इस फिल्म को अब तक विभिन्न कटेगरी में फिल्मी सामारोह में आठ अवार्ड भी मिल चुके है।

वहीं हैलीकाप्टर ईला ऐसी मां की कहानी है जो अपने बेटे के साथ कॉलेज में एडमिशन लेकर फिर से पढ़ाई शुरू करती है, जिसमें कई मनोरजंक स्थिती बनती है। इसमें दोनो ही फिल्मों में काम करना उनके लिए चैंलज भरा रहा व कई तरह के नए अनुभव भी हुए।

गली-गुलिया फिल्म मिलने का श्रैय वो हरीकुमार पिल्लई को देते हैं। जिन्होने आमिरखान की पिपली लाईव में सांउड वर्क किया था। इसके आलावा अब तक दर्जनों फिल्मों में काम कर चुके है।

गौरव गिल का कहना है कि हरिकुमार पिल्लई का उनको हमेशा ही तकनीकी रूप से व भावनात्मक रूप से बराबर सहयोग रहता है। उनका कहना है कि सांउड में नए प्रयोग के लिए हरिकुमार ही उनके प्ररेणा स्त्रोत है।

गौरव की माता उजाला देवी बेटे की इस उपलब्धि पर फुली नहीं समा रही हैं। उनका कहना है कि फिल्मों में जाने की इसकी जिद थी। लेकिन गौरव के पापा ने कहा था कि अगर टेस्ट में पास नहीं होगा, तो चाय की दुकान पर लगा देंगे। पर इसने मेहनत की रोहतक के फिल्म इस्टूटियट में दाखिला लिया सांतवा रैंक प्राप्त किया।

बचपन में इंजीनियर बनना चाहता था बाद में मन बदल गया, फोटोग्राफर की दुकान पर भी इसने काम किया। कभी कुछ बनाता था कभी कुछ। खुशी है कि जो यह करना चाहता था वो इसने करके दिखाया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *