GDMA के लिए1443 करोड़ रूपए के बजट प्रस्तावों को मंजूरी

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
Manu Mehta, Yuva Haryana
Gurugram, 06 March, 2019
हरियाणा के मुख्यमंत्री ने आज गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की तीसरी बैठक में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 1443 करोड़ रूपए के बजट प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। इसमें से लगभग 508 करोड़ रूपए वर्तमान में जीएमडीए द्वारा करवाए जा रहे कार्यों पर खर्च होंगे। 
आज की बैठक में चालू वित्त वर्ष के संशोधित प्रस्तावों को भी मंजूरी दी गई और जीएमडीए के पिछले डेढ़ साल के कार्यों की समीक्षा भी की गई। जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव, वी. उमा शंकर ने जीएमडीए का वर्ष 2019-20 के बजट प्रस्ताव प्रस्तुत करते हुए कहा कि 1443 करोड़ रूपए के बजट प्रस्तावों में से लगभग 508 करोड़ रूपए की राशि वर्तमान में चल रहे सुधारीकरण परियोजनाओं पर खर्च होगी। इन परियोजनाओं में लैफिटनेंट अतुल कटारिया चैक, उमंग भारद्वाज चैक से एनपीआर तक की सडक़ को 6 लेन की बनाना, महावीर चैक तथा हुडा सिटी सैंटर मैट्रो स्टेशन के चारों तरफ के सुधारीकरण के कार्य शामिल हैं।
 
मुख्यमंत्री ने मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए बताया कि गुरूग्राम में चल रहे स्मार्ट सिटी प्रोजैक्टों के लिए भी 90 करोड़ रूप्ए की राशि का प्रावधान किया गया है जिसमें इन्टीग्रेटिड कमांड एण्ड कंट्रोल सैंटर की स्थापना, टैऊफिक मैनेजमेंट सिस्टम के साथ सिटी वाईड पब्लिक सेफटी सीसीटीवी सिस्टम को चालू करना तथा सैंट्रलाईज्ड इंटीग्रेटिड वॉटर मैनेजमेंट सिस्टम शामिल हैं। उन्होंने बताया कि स्मार्ट सिटी परियोजनाओं के अंतर्गत बस क्यू शैल्टरों तथा सरकारी कार्यालयों में पब्लिक के लिए एक घंटे फ्री वाई फाई की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी इनीशिएटिवज में गुरूग्राम ना केवल हरियाणा में पहले नंबर पर है बल्कि शायद उत्तर भारत में भी पहले स्थान पर है। 
जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी उमा शंकर ने बताया कि इन इनीशिएटिवज के तहत गुरूग्राम में लगभग 600 किलोमीटर लंबी ऑप्टिकल फाईबर बिछाई जाएगी जिसमें से अब तक 105 किलोमीटर लंबी ऑप्टिकल फाईबर केबल बिछाई जा चुकी है तथा 250 किलोमीटर से ज्यादा डक्ट बिछाई गई हैं। यह कार्य 3 एंजेसियां कर रही हैं और जून 2019 तक इसके पूरा होने का अनुमान है। उन्होंने बताया कि सिटी वाईड सीसीटीवी बेस्ड पब्लिक सेफटी तथ अडेप्टिव टैऊफिक मैनेजमेंट सिस्टम के प्रथम चरण के टैंडर हो चुके हैं। इस प्रणाली से पुलिस के थानों के अलावा स्ट्रीट लाईट, कचरा प्रबंधन सहित शहर की 16 सेवाएं जुड़ेंगी। उमाशंकर ने बताया कि मॉल तथा अन्य प्राईवेट जगहों पर भी लगे लगभग 60 हजार कैमरे इस प्रणाली से जुड़ेगे। 
बजट प्रस्तावों में बताया गया कि 59 करोड़ रूप्ए की राशि मोबिलिटी इंफ्रास्ट्रक्चर डिवलपमेंट पर खर्च होगी। इसमें गुरूग्राम महानगर सिटी बस लिमिटिड के लिए सैक्टर- 10 में बस अड्डे का निर्माण, फुट ओवर ब्रिज, चैराहों का सुधारीकरण तथा अन्य कार्य शामिल हैं। इसके अलावा, सीएसआर के तहत जुटाई जाने वाली 23 करोड़ रूपए की राशि ग्रीन बैल्ट और पार्कों  के विकास के अलावा वजीराबाद में जलाशय विकसित करने पर खर्च होगी। यही नहीं लगभग 59 करोड़ रूप्ए की राशि सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर जिसमें खेडक़ी माजरा सैक्टर-102 में मैडिकल अस्पताल का निर्माण, सैक्टर 67 में मल्टी स्पेशिलिटी अस्पताल तथा ताऊ देवीलाल स्पोट्र्स कम्पलैक्स में सिन्थैटिक टैऊक बिछाने जैसे चल रहे कार्यों के लिए प्रावधान किया गया है। 
लगभग 535 करोड़ रूप्ए की राशि इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए निर्धारित की गई है जोकि इडीसी के प्राप्त होगी। इसमें सडक़ों का विकास, पेयजल आपूर्ति, सीवरेज सिस्टम, स्टोर्म वॉटर डेऊनेज, पर्यावरण संरक्षण तथा वॉटर री-साईकलिंग के कार्य शामिल हैं। ईडीसी से प्राप्त होने वाली लगभग 43 करोड़ रूप्ए की राशि सैक्टर-72 व 72ए  की मास्टर डिवाईडिंग रोड़ बनाने के अलावा, सैक्टर 58 से 115 के नए सैक्टरों में सडक़े बनाने पर खर्च होगी। श्री उमाशंकर ने बताया कि लगभग 86.95 करोड़ रूपए की राशि सडक़ों के ऑपे्रशन तथा मैन्टेनैन्श के लिए निर्धारित की गई है। पेयजल आपूर्ति, सीवरेज, डेऊनेज तथा वॉटर री-साईकलिंग के लिए 208 करोड़ रूपए की राशि निर्धारित की गई है। 
वर्ष 2019-20 में 44.77 करोड़ रूपए की राशि का प्रावधान अस्टाब्लिसमेंट, वेतन, वेजिज, मैन पॉवर, आईटी तथा कम्युनिकेशन व जीआईएस इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च होगी। ईडीसी से मिलने वाले लगभग 534.90 करोड़ रूप्ए में से 120 करोड़ रूपए की राशि पानी और सीवरेज के चार्जिज से प्राप्त होगी। 
गुरूग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक में गुरूग्राम के सैक्टर 52ए में फलॉवर मार्केट तथा सैंटर ऑॅफ एक्सीलैंस बनाने को मंजूरी दी  
मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में बताया गया कि हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड तथा गुरूग्राम महानगर विकास प्राधिकरण द्वारा गुरूग्राम के सैक्टर 52ए में लगभग 11.41 एकड़ भूमि पर फलॉवर मार्केट विकसित की जाएगी। जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वी उमाशंकर ने बताया कि फलॉवर मार्केट बनाने के लिए एसपीवी बनाई जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली एनसीआर में फूलों की बिक्री का काफी स्कोप है और इसको रैगुलेट करने के लिए फलॉवर मार्केट की स्थापना जरूरी है। 
उमाश्कर ने बताया कि यह कार्य दो चरणों में किया जाएगा। प्रथम चरण में फलॉवर मार्केट बनाई जाएगी जिसमें प्री फैब्रिकेटिड स्ट्रक्चरों, शैड और प्री इंजीनियर्ड वस्तुओं का उपयोग होगा। दूसरे चरण में सैंटर ऑफ एक्सीलैंस बनाया जाएगा जिसमें आधुनिक ऑक्शन हॉल का निर्माण किया जाएगा। इस ऑक्शन हॉल में नवीनतम इलैक्ट्रॉनिक ऑक्शन की सुविधाएं होगी। किसानों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर की किस्में उगाने के लिए वहां पर प्रशिक्षित किया जा सकेगा तथा किसान विदेशी एक्सपर्टो तथा उत्पादकों से भी रूबरू हो पाएंगे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *