Home Breaking गेंहू की फसल में गिल्ली डंडा बना परेशानी का सबब, किसान भाई भी हैं परेशान

गेंहू की फसल में गिल्ली डंडा बना परेशानी का सबब, किसान भाई भी हैं परेशान

0
0Shares

Sahab Ram, Yuva Haryana
हरियाणा में गेंहू की फसल जैसे जैसे बड़ी हो रही है, वैसे वैसे खरतवार भी बढ़ रहे हैं। इस मौसम में कोहरे और पाले की वजह से जहां गेंहू के पौधे की पत्तियां झुलस रही है वहीं जमीन पर भी खरपतवार गेूंह के विकास में बाधक बन रहे हैं।
इन खरपतवारों में सबसे इस समय का खतरनाक जो खरपतवार है वो है गुल्ली डंडा। गुल्ली डंडा खेलने वाला नहीं है बल्कि गेंहू के खेतों में होने वाला एक खरपतवार है जो कि गेंहू का विकास नहीं होने देता। इससे किसान भाई भी काफी परेशान रहते हैं।


इस मौसम में साफ मौसम ना होने के वजह से कीटनाशक भी काम नहीं कर रहे हैं, वहीं इस मौसम का फायदा उठाते हुए गुल्ली डंडा का यह खरपतवार तेजी से बढ़ रहा है। आने वाले समय में इस खरपतवार से गेंहू के उत्पादन पर भी असर पड़ता है।


गेंहू में गुल्ली डंडा के अलावा पौआ घास, जंगली पालक, मालवा की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। जहां गेहूं की फसल नरमा, बाजरा, ग्वार व ज्वार के बाद की जाती है, यहां पर जंगली जई, बथुआ, खडबाथू, गुल्ली डंडा मेथा, गजरी कंटीली पालक खरपतवार पाए जाते है। गेहूं की फसल पर खरपतवार नियंत्रण न किया जाए तो पैदावार में 30 प्रतिशत तक कमी आ सकती है।


किसानों के लिए इस वक्त इस गुल्ली डंडा और अन्य खरपतवारों के लिए एक ही मुख्य कीटनाशक मिल रहा है जिसका नाम है अलग्रिप। इसके अलावा कुछ ऐसी भी कीटनाशक है जिनकी वजह से गुल्ली डंडा को खत्म किया जा सकता है, लेकिन खराब मौसम में कीटनाशक भी ज्यादा काम नहीं कर रहे हैं।

अब किसान भी बिजली से कमा सकते हैं पैसे, जानिये क्या है योजना ?
कृषि विभाग के अधिकारियों के मुताबिक इस वक्त गिल्ली डंडा का काफी ज्यादा प्रकोप बढ़ जाता है, ऐसे में किसान भाई जिन खेतों में गिल्ली डंडा कम है उसको खुद ही उखाड़ सकते हैं, इसके अलावा अगर ज्यादा खरपतवार है तो विशेषक्षों की राय लेकर ही कोई कीटनाशक का छिड़काव करें।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

विवाहिता की संदिग्ध हालात में मौत, परिजनों ने ससुराल पक्ष पर लगाए दहेज के लिए हत्या के आरोप

Yuva Haryana, Mewat पुन्हाना के…