सरकार की तरफ से सौगात- अब कोई भी बेटी पैसे की कमी के चलते नहीं रहेगी पढ़ाई से वंचित

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें युवा सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

प्रदेश में कई बेटियां हैं जो कि पैसे की कमी होने के कारण अपनी पढ़ाई को पूरा नहीं कर पाती हैं। अपनी इच्छाओं को मारकर उन्हें समझौता करना पढ़ता है, सिर्फ यही सोचकर की अपने मां- बाप को तक्लीफ न दें।

लेकिन अब हरियाणा में कोई भी बेटी पढ़ाई से वंचित नहीं रहेगी। बेटियों की शिक्षा के लिए राज्य सरकार ने 10 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है।  जिसके चलते अब अगर प्रदेश में किसी भी बेटी को शिक्षा प्राप्ति में धन की कमी आती है, तो वह राज्य के शिक्षा मंत्री को चिट्ठी लिख सकती है।

बता दें कि शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा झज्जर के गांव कुलाना में राजकीय महिला महाविद्यालय के भूमि पूजन समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत करने पहुंचे थे।

इतना ही नहीं कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ की विशेष मांग पर शिक्षा मंत्री ने गांव पाटोदा में संस्कृति मॉडल स्कूल और राजकीय महिला महाविद्यालय, कुलाना में कला व वाणिज्य के साथ- साथ विज्ञान संकाय आरंभ करने की भी घोषणा की। शिक्षा मंत्री ने कहा कि राजकीय महिला महाविद्यालय, कुलाना के लिए कृषि मंत्री ने बड़ा संघर्ष किया है। इनके प्रयासों के चलते ही इस इलाके का यह सपना साकार हो पाया है।

बता दें कि 11 जून से कॉलेज के लिए दाखिले शुरू हो जाएंगे। कॉलेज में प्रवेश पाने वाली पहली दस छात्राओं को 500- 500 रुपए की राशि प्रोत्साहन स्वरूप भी मिलेगी।

ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि अपनी बेटियों को पढ़ाने का सपना आज साकार हो रहा है। बेटियों को 12वीं के बाद उच्च शिक्षा के लिए बाहर भेजने का माताओं के मन में जो संकोच होता था, इस कॉलेज के खुलने से वह संकोच टूट जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस संस्थान को शिक्षा का ऐसा मंदिर बनाइए कि यहां पर दाखिले के लिए लाइन लगे। करीब 12 एकड़ में बनने वाले इस कॉलेज के निर्माण पर सवा बारह करोड़ रुपए की लागत आएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *