छेड़छाड़ से परेशान होकर लड़कियां छोड़ रही है पढ़ाई- राज्य महिला आयोग

बड़ी ख़बरें हरियाणा विशेष

हरियाणा में महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराधों से हर कोई परेशान है। ऐसे में राज्य महिला आयोग की एक रिपोर्ट सामने आई है। आयोग की टीम ने प्रदेश के अलग-अलग शिक्षण संस्थानों में जाकर वहां पढ़ रही छात्राओं से बातचीत की, जिसके बाद सामने आया कि हरियाणा में स्कूल, कॉलेज से लेकर यूनिवसिर्टी में पढ़ रही बेटियों के साथ छेड़छाड़ और उन्हें तंग करने की घटनाएं होती रहती हैं।

जिस कारण उनकी पढ़ाई में बाधा आ रही है। आयोग ने खानपुर में हेल्थ यूनिवर्सिटी, रोहतक में स्टेट यूनिवर्सिटी और कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय जैसे बहुत से शिक्षण संस्थानों में सर्व किए है, और पाया कि वाकई लड़कियां छेड़छाड से परेशान है।

आयोग की चेयरपर्सन प्रतिभा सुमन ने कहा कि शिक्षण संस्थानों को छात्राओं की सुरक्षा के लिए कठोर कदम उठाने की जरूरत है। आयोग ने शिक्षण संस्थानों में छात्राओं से छेड़छाड़, यौन शोषण की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए 11 उपाय बताते हुए उन्हें लागू करने की सिफारिश उच्च शिक्षा विभाग, स्कूल शिक्षा विभाग, तकनीकी शिक्षा विभाग, औद्योगिक प्रशिक्षण के निदेशक के साथ-साथ हरियाणा के पुलिस महानिदेशक से की है। आयोग का कहना है कि उनकी सिफारिश अगर लागू होती है तो काफी हद तक घटनाओं पर रोक लगेगी।

वहीं जांच में पता चला कि छात्राओं की सुरक्षा का कोई प्रबंध नहीं है। सीसीटीवी कैमरे तक नहीं है। बाहर गार्ड नहीं है। स्टेट यूनिवसिर्टी तो बना दी, लेकिन पास कोई थाना या पुलिस चौकी नहीं बनाई। पीसीआर की गाड़ी भी खड़ी नहीं होती। आयोग ने शिक्षण संस्थानों में विजिट के बाद ऐसी घटनाएं रोकने के लिए सभी यूनिवर्सिटी तथा शिक्षण संस्थाओं को पत्र जारी किया है।