किसानों का गन्ना भुगतान में गोहाना चीनी मिन टॉ़प पर, जींद की मिल भी टॉप-6 में शामिल

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Jind

जींद की सरकारी चीनी मिल आज कल चर्चा  का विषय बनी हुई है। यह मिल किसानों को उनके गन्ने के भुगतान के मामले में टॉप-6 में शामिल हो गई है। जबकि टॉप पर गोहाना की चीनी मिल है। वहीं पानीपत की चीनी मिल भुगतान ना करने में सबसे  पिछे है।

बता दें कि हर साल किसान अपन गन्ना सरकारी चीनी मिलों में डालते है। इस साल भी किसानों ने 10 सरकारी चीनी मिलों में अपना गन्ना डाला था। जिसमें तकरीबन 455.25 लाख किंवटल गन्ने की  पिराई हुई जिसकी कीमत 149768.19 लाख रुपए बनती है। इसी पैसे से सरकारी चीनी मिलों ने किसानों का सारा पैसा लौटा दिया है।

साथ ही बता दें कि फिलहाल प्रदेश की चीनी मिलों पर गन्ना उत्पादकों का 39542.89 लाख रूपए बकाया पड़ा हुआ है। इसी भुगतान को लेकर 23 जुलाई को हरियाणा शूगर फैड की बैठक होगी जो चंडीगढ़ में की जाएगी।

अब प्रदेश की तमाम सहकारी चीनी मिलों की तरफ गन्ना उत्पादक किसानों का 39542.89 लाख रुपए बकाया है। इस बकाया के भुगतान को लेकर 23 जुलाई को चंडीगढ़ में हरियाणा शूगर फैड की अहम बैठक बुलाई गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *