गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में फिल्म दंगल का क्लाइमैक्स सीन, पहली बार बेटी का मुकाबला देखने पहुंचे महावीर को नहीं मिला टिकट

Breaking Uncategorized खेल चर्चा में दुनिया देश बड़ी ख़बरें युवा हरियाणा हरियाणा के खिलाड़ी

Yuva Haryana
Chandigarh, 12 April, 2018

गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ में महावीर फौगाट के साथ वो हुआ जो फिल्म दंगल में उन्हीं का अभिनय करने वाले आमिर के साथ हुआ। दरअसल, ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में बबीता फौगाट का पहली बार मुकाबला देखने पहुंचे उनके पिता और कोच महावीर फौगाट को स्टेडियम में एंट्री का टिकट ही नहीं मिला।

कॉमनवेल्थ गेम्स मेेेें 53 किलोग्राम कैटेगरी में सिल्वर जीतने वाली बबीता, पिता महावीर के लिए मुकाबले से एक दिन पहले से ही टिकट मांग रही थीं। लेकिन भारतीय स्पोर्टिंग स्टाफ से उन्हें कोई मदद नहीं मिली। मुकाबले के दिन टिकट मिलने की आस में महावीर फौगाट पूरा दिन स्टेडियम के बाहर खड़े रहे। जब बबीता ने ऑस्ट्रेलिया के एथलीटों से मदद मांगी तब जाकर उनके पिता को एंट्री मिली, लेकिन तब तक मुकाबला ख़त्म हो चुका था।

वीरवार को सिल्वर जीतने के बाद बबीता ने नाराज़गी जताते हुए कहा, मेरे पिता पहली बार मेरा बाउट देखने यहां आए थे, लेकिन वो टिकट के इंतजार में बाहर ही खड़े रहे। उन्होंने कहा वो मेरा मुकाबला ना तो यहां देख पाए और ना ही टीवी पर। साथ ही बबीता ने कहा कि एक एथलीट 2 टिकट पाने का हकदार होता है, लेकिन हमें ये 2 टिकट भी नहीं दिए गए।

बबीता ने बताया कि जब मैंने ऑस्ट्रेलियाई टीम से कुछ टिकटों के लिए मदद मांगी तब जाकर मेरे पिता को बाउट के बाद एंट्री मिल पाई। इससे पहले मैंने इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन से लेकर मिशन प्रमुख तक सभी से मदद मांगी थी। मैं अपने मुकाबले से एक दिन पहले रात 10 बजे से टिकट मांग रही थी, लेकिन फिर भी टिकट नहीं मिल पाई। बबीता ने कहा कि जब किसी के साथ ऐसा होता है तो ज़ाहिर है बुरा लगता है।

गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में इंडियन स्पोर्टिंग स्टाफ के मिशन प्रमुख विक्रम सिसोदिया ने मामले में सफाई देते हुए कहा कि हमें कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन से टिकट मिले थे जो हमने सभी खेल कोच तक पहुंचा दिए थे। रेसलिंग के मैच के लिए 5 टिकट उनके कोच राजीव तोमर को दिए थे। सिसोदिया ने बताया कि बबीता को टिकट क्यों नहीं मिला इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि हो सकता है कि बबीता ज़्यादा टिकट मांग रही हों।

बता दें, ऐसे ही मामले में बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने अपने पिता को एक्रीडिटेशन नहीं मिलन पर कॉमनवेल्थ गेम्स की टीम से हटने की धमकी दी थी। बाद में इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन ने उनके पिता का एक्रीडिटेशन करवाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *