Home Breaking ITI पास युवाओं के लिए खुशखबरी, अब नहीं करनी पड़ेगी 12वीं की पढ़ाई

ITI पास युवाओं के लिए खुशखबरी, अब नहीं करनी पड़ेगी 12वीं की पढ़ाई

0
0Shares
Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 01 March, 2019
अब 10वीं के बाद आईटीआई करने वाले युवाओं को कक्षा 12वीं की पढ़ाई नहीं करनी होगी। यानि कि उन्‍हें 12वीं पास माना जाएगा और ये आईटीआई करने वाले छात्र सीधा कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं।  हरियाणा प्रदेश में अब यह व्यवस्था लागू होगी। हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड चेयरमैन डॉ. जगबीर सिंह के अनुसार आईटीआई पास करने वाले विद्यार्थियों को अब 10वीं व 12वीं कक्षा के समकक्ष मान्यता दिए जाने की मंजूरी दे दी गई है।
डॉ. जगबीर सिंह  ने बताया कि आईटीआई में प्रशिक्षण करने वाले विद्यार्थियों के लिए निश्चित ही ये राहत भरी खबर है। क्योंकि आईटीआई के कोर्स के साथ उन्हें 10वीं व 12वीं कक्षा का भी प्रमाणपत्र मिल सकेगा। इससे आईटीआई करने वाले विद्यार्थियों को अब अलग से 10वीं व 12वीं कक्षा की पढ़ाई करने की आवश्यकता नहीं रहेगी। हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड ,कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र सिंह ने इस प्रस्ताव को स्वीकृति देते हुए इसका नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है।
शिक्षा बोर्ड चेयरमैन डॉ. जगबीर सिंह के अनुसार प्रदेश में 167 राजकीय व 150 प्राइवेट आईटीआई संचालित हैं ! कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग की ओर से प्रदेश में 167 राजकीय आईटीआई व 150 प्राइवेट आईटीआई संचालित किए जाने की अनुमति दी गई है। इन आईटीआई में प्रतिवर्ष डेढ़ लाख विद्यार्थी विभिन्न कोर्सों में प्रशिक्षण हासिल करते हैं। खास बात यह है कि इक्का दुक्का कोर्स 10वीं के अलावा आईटीआई में किसी भी कोर्स में दाखिला लेने के लिए आठवीं व 10वीं पास रखी गई है। प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल जी एवं शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा जी ने आईटीआई में प्रशिक्षण करने वाले विद्यार्थियों के लिए निश्चित ही ये राहत देने का कार्य किया है!
नोटिफिकेशन में शिक्षा बोर्ड ने ये फैसले शामिल किए हैं 
1. 10वीं के बाद 2 वर्षीय कोर्स से 12वीं के हिंदी या अंग्रेजी भाषा में से कोई एक भाषा पास करने पर बोर्ड की ओर से संचालित 12वीं परीक्षा के समकक्ष मान्यता प्रदान किया जाना।
2. 10वीं के बाद एक वर्षीय कोर्स के आधार पर विभाग की ओर से एक वर्ष के अप्रेंटिस प्रमाणपत्र को शामिल कर 12वीं कक्षा की हिंदी या अंग्रेजी भाषा में एक भाषा उत्तीर्ण करने पर बोर्ड की ओर से संचालित 12वीं कक्षा की परीक्षा के समकक्ष मान्यता प्रदान करना।
3. 8वीं के आधार पर जिन कोर्सेज की समय अवधि एक वर्ष है और एक वर्ष की अप्रेंटिसशिप करवाई जाती है। एक वर्ष से प्रशिक्षण बाद विभाग द्वारा परीक्षा करवाकर प्रमाणपत्र दिया जाता है।
Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

युवा हरियाणा टॉप न्यूज में पढ़िए प्रदेश की सभी छोटी बड़ी खबरें फटाफट

Yuva Haryana Top News 15 july 2020 1. हरियाणा &#…