JBT अध्यापकों के लिए खुशखबरी, इन 11 जिलों में JBT को प्रोमोट कर हैड टीचर बनाने के आदेश

Breaking बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
हरियाणा मौलिक शिक्षा विभाग के निदेशक ने राज्य के सभी जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को जरूरत अनुसार तुुरंत प्राइमरी अध्यापकों की हैड टीचर के पद पर पदोन्नति करने के निर्देश दिए हैं।
नियम के अनुसार जिस स्कूल में 150 से ज्यादा बच्चे पढ़ रहे हों, वहां पर हैड टीचर की नियुक्ति जरूरी है।
विभागीय नियमानुसार राज्य के 10 जिलों, अंबाला, भिवानी, फतेहाबाद, जींद, कैथल, कुरूक्षेत्र, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, सिरसा तथा यमुनानगर में हैड टीचर का कोई रिक्त पद नहीं है। शेष 11 जिलों, फरीदाबाद, गुरूग्राम, हिसार, झज्जर, करनाल, नूंह मेवात, पलवल, पंचकूला, पानीपत, रोहतक तथा सोनीपत जिले में प्राइमरी अध्यापका से हैड टीचर के पद पर पदोन्नति के लिए संभावनाएं हैं।
सरकारी प्राइमरी स्कूलों द्वारा एम.आई.एस पोर्टल पर अपडेट की जानकारी के अनुसार सितंबर 2017 को अंबाला जिला में 113 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 23 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे। इसी प्रकार भिवानी जिले में 75 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 71 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे। फतेहाबाद जिला में 114 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 108 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे। जींद जिला में 97 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 77 स्कूलों में ज्यादा 150 से विद्यार्थी पढ़ रहे थे।
कैथल जिला में 130 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 106 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे। कुरूक्षेत्र जिला में 128 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 42 स्कूलों में ज्यादा 150 से विद्यार्थी पढ़ रहे थे। रेवाड़ी जिला में 28 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 22 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे। महेंद्रगढ़ जिला में 170 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 13 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे
सिरसा जिला में 143 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 141 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे। यमुनानगर जिला में 93 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 46 स्कूलों में ज्यादा 150 से विद्यार्थी पढ़ रहे थे। 
 
इसके उलट, फरीदाबाद जिला में 16 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 105 स्कूलों में 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे, गुरूग्राम जिला में 62 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 113 स्कूलों में 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे, हिसार जिला में 54 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 116 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे, झज्जर जिला में 9 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 18 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे। करनाल जिला में 91 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 108 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे।
नूंह मेवात जिला में 273 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 309 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे, पलवल जिला में 74 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 135 स्कूलों में ज्यादा 150 से विद्यार्थी पढ़ रहे थे, पंचकूला जिला में 43 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 44 स्कूलों में 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे।
पानीपत जिला में 20 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 109 स्कूलों में ज्यादा 150 से विद्यार्थी पढ़ रहे थे, रोहतक जिला में 20 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 42 स्कूलों में ही 150 से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे थे।
सोनीपत जिला में 61 हैड टीचर कार्यरत थे जबकि 63 स्कूलों में ज्यादा 150 से विद्यार्थी पढ़ रहे थे।
निदेशक ने कहा है कि राज्य के सभी जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी जरूरत अनुसार तुुरंत प्राइमरी अध्यापकों की हैड टीचर के पद पर पदोन्नति करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *