हरियाणा की गौरी श्योराण ने गोल्ड पर लगाया निशाना, विश्व यूनिवर्सिटी शूटिंग चैंपियनशिप में पदक जीतने वाली अकेली भारतीय खिलाड़ी

Breaking खेल दुनिया देश बड़ी ख़बरें शख्सियत हरियाणा

युवा हरियाणा

चंडीगढ़ ( 18 मार्च 2018)

मलेशिया के कुआलालम्पुर में आयोजित 7वीं विश्व यूनिवर्सिटी शूटिंग चैंपियनशिप में भारत की गौरी श्योराण ने गोल्ड पर निशाना लगाया है। निशानेबाज गौरी श्योराण ने यहां पर गोल्ड मेडल जीता है।

हरियाणा की बेटी गौरी श्योराण ने 25 मीटर स्पोर्ट्स पिस्टल प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर देश का नाम रोशन किया है। ओलंपिक के बाद यह सबसे महत्वपूर्ण शूटिंग प्रतियोगिता है जो हर दो साल बाद आयोजित होती है। भारत की ओर से इस बार गोल्ड मैडल जीतने वाली गौरी श्योराण एकमात्र खिलाड़ी हैं।

मलेशिया के कुआलालम्पुर में आयोजित 7वीं विश्व यूनिवर्सिटी शूटिंग चैंपियनशिप में भारतीय टीम ने ब्रॉन्ज मेडल जीता है. इस टीम में अलग-अलग हिस्सों के खिलाड़ी शामिल हैं।

30 इंटरनैशनल प्रतियोगिताओं में भाग ले चुकी गौरी 23 इंटरनैशनल पदक जीत चुकी हैं। इससे पहले उन्होंने जर्मनी में आयोजित विश्व शूटिंग चैंपियनशिप में भी कांस्य पदक जीता था। गौरी के भाई विश्वजीत सिंह भी कई इंटरनैशनल शूटिंग प्रतियोगिताओं में पदक जीत चुके हैं।

हरियाणा की इस होनहार बेटी की उपलब्धियों के मद्देनज़र हरियाणा सरकार ने गौरी को 2016-17 के भीम अवॉर्ड से भी सम्मानित किया है। 1997 में गौरी श्योराण का जन्म हुआ और 12 साल की उम्र से ही गौरी ने निशानेबाजी का अभ्यास शुरू कर दिया था। 2010 से गौरी ने निशानेबाजी के टूर्नामेंट्स में शिरकत करना शुरू कर दिया।

गौरी के पिता जगदीप श्योराण हरियाणा के खेल निदेशक हैं। उन्होने भी गौरी श्योराण के गोल्ड मेडल जीतने पर खुशी जाहिर की है। नवरात्रों के पहले दिन देश को स्वर्ण पदक का तोहफा देने वाली हरियाणा की ये बेटी भिवानी जिले के दादरी की रहने वाली है। उनके दादा चौधरी बहादुर सिंह हरियाणा के शिक्षा मंत्री रह चुके हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *