दो दर्जन सरकारी विभाग अब तक नहीं कर पाए बजट में से 50 फीसद से अधिक खर्च

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Chandigarh, 19 Feb, 2019

एक सप्ताह बाद प्रदेश की भाजपा सरकार अपने कार्यकाल का आखिरी बजट पेश करने जा रही है, लेकिन अफसर अब तक अपना पुराना बजट ही खर्च नहीं कर पाए हैं। बता दें कि दो दर्जन सरकारी विभाग ऐसे हैं जिनके खजाने में 50 फीसदी से अधिक पैसा बिना खर्च के पड़ा है।

वैसे तो मंत्री सरकार के ऊपर अधिक से अधिक बजट का दबाव बनाने से नहीं चूकते हैं, लेकिन अब बजट का अच्छे से इस्तेमाल ना करके अधिकारी सरकार के प्रयसों पर पानी फेरते दिखाई दे रहे हैं।

वहीं वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु सरकारी विभागों के इस गैरजिम्मेदाना हरकत से नाराज हैं। इतना ही नहीं कैप्टन ने विभाग द्वारा बजट का सही ढंग से इस्तेमाल ना करने पर अधिकारियों को अपनी नाराजगी भी जाहिर की है।

वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने पिछले वर्ष एक लाख 11 हजार करोड़ रुपये का बजट पेश किया था, लेकिन इस राशि में से अब तक 60-65 फिसदी तक ही पैसा खर्च हो पाया है। बाकि 40 फीसदी तक पैसा खजाने में बेकार ही पड़ा हुआ है।

प्रदेश सरकार का गांवों के विकास पर ज्यादा ध्यान रहता है, लेकिन ग्रामीण विकास विभाग 18 फरवरी तक केवल 30 फीसदी ही खर्च कर पाया है। वहीं बागवानी विभाग 21 प्रतिशत व उद्योग 40 फीसद बजट ही खर्च कर पाया है। सिंचाई विभाग सीधे तौर पर किसानों से जुड़ा है, लेकिन इस विभाग में अब तक 40 फीसद बजट खर्च हुआ, जबकि कृषि विभाग ने 45 फीसद ही बजट खर्च किया है।

देखा जाए तो प्रदेश में मेडिकल एजुकेशन और खेलों में भी विभाग द्वारा बजट में से खास खर्च नहीं हुआ है। राज्य सरकार हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोलने का इरादा लेकर चल रही है। 18 जिलों में खोलने का दावा किया जा रहा है, लेकिन 4 जिले अभी भी बाकि हैं। मेडिकल विभाग में भी बजट से 49 फीसद तक ही खर्च हो पाया है।

हरियाणा में पर्यावरण एक बड़ा मुद्दा बनता जा रहा है, लेकिन विभाग ने इसमें भी कंजूसी दिखाते हुए मात्र 34 फीसद बजट में से खर्च किया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *