कुपोषण से जूझ रहे नूंह पानीपत पर सरकार का फोकस, नवजात और गर्भवती महिलाओं के लिए शुरू किया प्रोजेक्ट

Breaking बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

Yuva Haryana

Panchkula (22 March 2018)

अब नूंह और पानीपत में बच्चे ना ही छोटे कद के रहेंगे और ना ही कम वजन के। क्योंकि दोनों जिलों में छह साल तक के बच्चों में बौनपन और कम वजन के मामलों में कमी लाने के लिए सरकार एक प्रोजेक्ट लाई है। इस प्रोजेक्ट में पांच साल तक के बच्चों, किशोरियों और महिलाओं में खून की कमी की दर में कमी लाने का लक्ष्य रखा गया है। जन्म के समय कम वजन के मामलों में भी कमी लाई जाएगी।

बता दें कि इस पूरे प्रोजेक्ट पर 60% हिस्सा केंद्र और 40% प्रदेश सरकार खर्च करेगी। दोनों जिलों में 4.41 करोड़ के अत्याधुनिक गैजेट्स खरीदने को मंजूरी मिल चूकी है।

राष्ट्रीय पोषण मिशन में नूंह और पानीपत में कुपोषण को खत्म करने के लिए नवजात, किशोरी, गर्भवती और स्तनपान करने वाली महिलाओं में कम वजन, एनीमिया, बौनापन समेत आधा दर्जन बिंदुओं की लगातार निगरानी के लिए आंगनबाड़ी वर्कर और सुपरवाइजरों को अत्याधुनिक गैजेट्स दिए जाएंगे।

महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने बताया कि अल्प पोषण से निपटने के लिए सरकार मिशन मोड में आ चुकी है। पूरक पोषण की गुणवता में सुधार और वितरण व्यवस्था को दुरूस्त करने के लिए देश के 315 जिलों में नूंह और पानीपत को भी चुना गया है। दोनों जिलों में नौनिहाल, गर्भवती महिलाओं को न केवल पोषक आहार दिया जाएगा, बल्कि तय बिंदुओं के अनुसार निगरानी भी की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *