फसल अवशेष को खेतों में दबाएं किसान, 8 तरह की मशीनें खरीदने के लिए 50% सब्सिडी देगी सरकार

Breaking खेत-खलिहान चर्चा में देश बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा
Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 04 July, 2018
केंद्र सरकार ने फसल अवशेष के इन-सीटू प्रबंधन के लिए कृषि मशीनीकरण की प्रोत्साहन योजना के तहत हरियाणा के लिए 137 करोड रुपये मंजूर किये गये हैं ताकि किसान को फसल अवशेषों को खेतों में ही दबाया जा सके। 
फसल अवशेषों के प्रबंध के लिए सरकार द्वारा 8 प्रकार की मशीनें जिनमें रोटावेटर, हैप्पी सीडर, जीरो टिल सीड ड्रिल, शर्ब मास्टर,रोटरी शैलर, आदि शामिल है, को खरीदा जायेगा। योजना के तहत जो भी किसान इन मशीनों को खरीदने के लिए संपर्क करेगा उसे 50 प्रतिशत की सब्सिडी दी जायेगी। इसके अलावा, यदि 8 किसानों का समुह कस्टम हायरिंग केंद्र खेलेंगे, उन्हें मशीनों की खरीद पर 80 प्रतिशत की छूट दी जायेगी। किसानों को सभी प्रकार के उपकरण 15 अगस्त तक उपलब्ध करवा दिये जाएंगे। इससे जहां खेतों की उर्वरता बढती है वहीं फसल की लागत पर आने वाले खर्च में भी कमी होती हैं।
राज्य में जुलाई माह से 30 नवंबर तक खंड स्तर व जिला स्तर पर विशेष अभियान चलाया जायेगा ताकि किसानो को फसल अवशेषों के प्रबंधन के लिए जागरूक किया जा सके इसके अलावा, किसानों के लिए प्रदर्शन तथा प्रशिक्षण कार्यक्रम भी चलाये जायेंगे। 
हरियाणा सरकार आगामी खरीफ  फसल से पहले धान की पराली को खेतों मे न जलाया जाये बल्कि इसका उपयोग खेत में ही हो, इसके लिए नीति तैयार कर ली गई है। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ‘फसल अवशेष के इन-सीटू प्रबंधन के लिए कृषि मशीनीकरण पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश व एन सी टी दिल्ली की प्रोत्साहन योजना’ पर कार्य कर रही है ताकि आगामी मौसम में प्रदूषण न बढ़े। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *